अप्रैल फूल दिवस या मूर्ख दिवस – April Fool’s Day in Hindi

अप्रैल फूल दिवस (01 अप्रैल): April Fool’s Day in Hindi

प्रत्येक साल दुनियाभर में 1 अप्रैल को ‘अप्रैल फूल दिवस’ अर्थात् ‘मूर्ख दिवस’ के रूप में मनाया जाता हैं। इस दिन लोग आपस में एक दुसरे को हसीं मजाक में मूर्ख बनाते है, लेकिन अन्य दिनों की तरह इस दिन मूर्ख बना व्यक्ति नाराज या गुस्सा नहीं होता जो इस दिन की सबसे बड़ी खासियत है। इस दिन दोस्तों, परिजनों, शिक्षकों, पड़ोसियों, सहकर्मियों आदि के साथ अनेक प्रकार की शरारतपूर्ण हरकतें और अन्य व्यावहारिक मजाक किए जाते हैं, जिनका उद्देश्य होता है बेवकूफ और अनाड़ी लोगों को शर्मिंदा करना।

मूर्ख दिवस का इतिहास (अप्रैल फूल की शुरुआत कैसे हुई?):

वैसे तो अप्रैल फूल दिवस के मनाने पीछे कोई ठोस कारण नहीं है लेकिन इसके बारे में दो कहानियां सबसे ज्यादा प्रचलित है:-

(1) कैंटरबरी टेल्स किताब: अप्रैल फूल दिवस का सबसे पहले जिक्र 1392 में ब्रिटिश लेखक चॉसर की किताब कैंटरबरी टेल्स में मिलता है। इस किताब की एक कहानी नन्स प्रीस्ट्स टेल के मुताबिक इंग्लैण्ड के राजा रिचर्ड द्वितीय और बोहेमिया की रानी एनी की सगाई की तारीख 32 मार्च घोषित कर दी गई जिसे वहां की जनता ने सच मान लिया और मूर्ख बन बैठे। तब से 32 मार्च यानी 1 अप्रैल को अप्रैल फूल डे के रूप में मनाया जाता है।

(2) नया साल अप्रैल फूल: एक और कहानी के मुताबिक प्राचीन यूरोप में नया साल हर वर्ष 1 अप्रैल को मनाया जाता था। 1582 में पोप ग्रेगोरी13 ने नया कैलेंडर अपनाने के निर्देश दिए जिसमे न्यू ईयर को 1 जनवरी से मनाने के लिए कहा गया। रोम के ज्यादातर लोगो ने इस नए कैलेंडर को अपना लिया लेकिन बहुत से लोग तब भी 1 अप्रैल को ही नया साल के रूप में मानते थे। तब ऐसे लोगो को मूर्ख समझकर उनका मजाक बनाया जाता था। ऐसा माना जाता है की यूरोप में अप्रैल फूल तब से मनाया जाता है।

अप्रैल फूल से जुड़े ऐतिहासिक महत्वपूर्ण तथ्य:

  • 1 अप्रैल 1860 की कहानी सबसे ज्यादा फेमस है। इस दिन लंदन के हजारों लोगों के घरों में पोस्ट कार्ड भेजकर यह सूचना दी गई कि आज शाम को टॉवर ऑफ लंदन में सफेद गधों को स्नान कराया जाएगा। आप सभी देखने के लिए आ सकते हैं, यह सब देखने के लिए कार्ड जरुर अपने साथ लाएं। लेकिन उन दिनों किन्हीं कारणों की वजह से टॉवर ऑफ लंदन के लिए बंद था। शाम होते ही टॉवर के बाहर हजारों लोगों की भीड़ लग गई। लोगों अंदर जाने के लिए धक्का- मुक्की तक करने लगे। लेकिन बाद में पता चला कि उन्हें किसी ने अप्रैल फूल बनाया है।
  • 1 अप्रैल 1915 की बात है जब जर्मनी के लिले हवाईअड्डा पर एक ब्रिटिश पायलट ने विशाल बम फेंका। इसको देखकर लोग इधर-उधर भागने लगे, देर तक लोग छुपे रहे। लेकिन बहुत ज्यादा वक्त बीत जाने के बाद भी जब कोई धमाका नहीं हुआ तो लोगों ने वापस लौटकर इसे देखा। जहां एक बड़ी फुटबॉल थी, जिस पर अप्रैल फूल लिखा हुआ था।
  • साल 1945 में अप्रैल के पहले सप्ताह को अमेरिका की कौतुक समिति नामक संस्था ने राष्ट्रीय हास्य सप्ताह मनाने का फैसला किया। इसके बाद ये कई साल तक चलता रहा और फिर इसी तरह 1960 में अप्रैल के पहले सप्ताह में अमेरिका में पब्लिसिटी स्टंट के रूप में मनाया जाने लगा।
  • ऐसा ही एक किस्सा है साल 2013 का है जब 31 मार्च के दिन यह अफवाह फैलाई गई कि एक अप्रैल से यूट्यूब बंद हो जाएगा। साथ ही यह घोषणा भी कर दी गई कि पिछले सालों में यूट्यूब पर अपलोड किए गए वीडियो में से सर्वश्रेष्ठ का चुनाव करने के लिए एक पैनल बनाया गया है, जो 2023 में परिणाम की घोषणा करेगा। इसके बाद कई तरह की अपवाहें फैलने लगी। लेकिन बाद में पता चला कि अप्रैल फूल बनाया जा रहा है।

अप्रैल माह के महत्वपूर्ण दिवस की सूची - (राष्ट्रीय दिवस एवं अंतराष्ट्रीय दिवस):

तिथि दिवस का नाम - उत्सव का स्तर
02 अप्रैलविश्व ऑटिज्म जागरूकता दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
05 अप्रैलराष्ट्रीय समुद्री दिवस - राष्ट्रीय दिवस
06 अप्रैलविकास एवं शांति के लिए अन्तरराष्ट्रीय खेल दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
07 अप्रैलविश्व स्वास्थ्य दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
10 अप्रैलविश्व होम्योपैथी दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
17 अप्रैलविश्व हीमोफिलिया दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
18 अप्रैलविश्‍व विरासत (धरोहर) दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
21 अप्रैलभारतीय सिविल सेवा दिवस - राष्ट्रीय दिवस
22 अप्रैलअन्तरराष्ट्रीय मातृ पृथ्वी दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
23 अप्रैलविश्व पुस्तक दिवस अथवा विश्व पुस्तक कॉपीराइट (प्रतिलिप्‍याधिकार) दिवस (यूनेस्‍को) - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
24 अप्रैलपंचायती राज दिवस - राष्ट्रीय दिवस
25 अप्रैलविश्व मलेरिया दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
29 अप्रैलविश्व नृत्य दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस

Like this Article? Subscribe to Our Feed!

Leave a Reply

Your email address will not be published.