अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस (01 अक्टूबर) | 01 October: International Day of Older Persons in Hindi

विश्व वृद्ध (वरिष्ठ) नागरिक दिवस (01 अक्टूबर)

अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस कब मनाया जाता है?

विश्व में बुजुर्गों के साथ होने वाले अन्याय और दुर्व्यवहार पर लगाम लगाने के उद्देश्य से प्रत्येक वर्ष 01 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय बुजुर्ग दिवस के रूप में मनाया जाता है।

अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस:

अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस को भिन्न-भिन्न-नामो से जाना जाता है जैसे:-  ‘अंतरराष्ट्रीय बुजुर्ग दिवस’ अथवा ‘अंतरराष्ट्रीय वरिष्‍ठ नागरिक दिवस’ अथवा ‘विश्व प्रौढ़ दिवस’ अथवा ‘अंतरराष्ट्रीय वृद्धजन दिवस’ इत्यादि। इस अवसर पर अपने वरिष्‍ठ नागरिकों का सम्मान करने एवं उनके सम्बन्ध में चिंतन करना आवश्यक होता है।

अंतरराष्ट्रीय बुजुर्ग दिवस का इतिहास:

संपूर्ण विश्व में बुजुर्गों के प्रति होने वाले अन्याय और उनके साथ दुर्व्यवहार पर लगाम लगाने के साथ-साथ वृद्धों को उनके अधिकारों के प्रति जागरुक करने के उद्देश्य से 14 दिसंबर, 1990 के दिन संयुक्त राष्ट्र ने यह निर्णय लिया कि हर साल 01 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय बुजुर्ग दिवस के रूप में मनाया जाएगा। इससे बुजुर्गों को भी उनकी अहमियत का अहसास होगा और समाज के अलावा परिवार में भी उन्हें उचित स्थान दिलवाया जा सकेगा। सबसे पहले 01 अक्टूबर, 1991 को बुजुर्ग दिवस मनाया गया और तब से इसे हर साल इसी दिन मनाया जाता है।

भारत में बुजुर्गों की स्थिति:

वैसे तो भारत में भी बुजुर्गों की रक्षा और उन्हें अधिकार दिलवाने के लिए भारत में भी कईकानूनों का निर्माण किया गया है लेकिन आज भी उनका पालन सही तरीके से नहीं किया जाता। केंद्र सरकार ने भारत में वरिष्‍ठ नागरिकों के आरोग्‍यता और कल्‍याण को बढ़ावा देने के लिए वर्ष 1999 में वृद्ध सदस्‍यों के लिए राष्ट्रीय नीति तैयार की है। जिसके तहत व्‍यक्तियों को स्‍वयं के लिए तथा उनके पति या पत्‍नी के बुढ़ापे के लिए व्‍यवस्‍था करने के लिए प्रोत्‍साहित किया जाता है और साथ ही परिवार वालों को वृद्ध सदस्‍यों की देखभाल करने के लिए प्रोत्‍साहित करने का भी प्रयास किया जाता है।

इसके साथ ही 2007 में माता-पिता एवं वरिष्‍ठ नागरिक भरण-पोषण विधेयक संसद में पारित किया गया है। इसमें माता-पिता के भरण-पोषण, वृद्धाश्रमों की स्‍थापना, चिकित्‍सा सुविधा की व्‍यवस्‍था और वरिष्‍ठ नागरिकों के जीवन और सं‍पत्ति की सुरक्षा का प्रावधान किया गया है।

अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस के विषय (थीम):

  • अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस 2019 का विषय (थीम)- “आयु समानता की यात्रा (The Journey to Age Equality)” है।
  • अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस 2018 का विषय (थीम)- “पुराने मानवाधिकार चैंपियन का जश्न मनाते हुए (Celebrating Older Human Rights champions )” था।
  • अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस 2017 का विषय (थीम)- “भविष्य में कदम: समाज में वृद्ध व्यक्तियों के प्रतिभा, योगदान और भागीदारी का दोहन (Stepping into the Future: Tapping the Talents, Contributions and Participation of Older Persons in Society)” था।
  • अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस 2016 का विषय (थीम) – “आयुवाद के खिलाफ एक स्टैंड लें (Take A Stand Against Ageism)” था।
  • अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस 2015 का विषय (थीम) – “शहरी पर्यावरण में स्थिरता और आयु समावेशिता” (Sustainability and Age Inclusiveness in the Urban Environment)” था।
  • अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस 2014 का विषय (थीम) – “नो वन बिहाइंड: प्रमोटिंग ए सोसाइटी फॉर ऑल (Leaving No One Behind: Promoting a Society for All)” था।
  • अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस 2013 का विषय (थीम) – “भविष्य हम चाहते हैं: वृद्ध व्यक्ति क्या कह रहे हैं (The future we want: what older persons are saying)” था।
  • अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस 2012 का विषय (थीम) – “दीर्घायु: भविष्य को आकार देना (Longevity: Shaping the Future)” था।
  • अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस 2011 का विषय (थीम) – “ग्लोबल एजिंग के बढ़ते अवसर और चुनौतियां (The Growing Opportunities & Challenges of Global Ageing)” था।
  • अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस 2010 का विषय (थीम) – “वृद्ध व्यक्ति और एमडीजी की उपलब्धि (Older persons and the achievement of the MDGs)” था।
  • अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस 2009 का विषय (थीम) – “सभी उम्र के लिए एक समाज की ओर (Towards a Society for All Ages)” था।
  • अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस 2008 का विषय (थीम) – “वृद्ध व्यक्तियों के अधिकार (Rights of Older Persons)” था।
  • अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस 2007 का विषय (थीम) – “चुनौतियां और उम्र बढ़ने के अवसर को संबोधित करते हुए (Addressing the Challenges and Opportunities of Ageing)” था।
  • अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस 2006 का विषय (थीम) – “वृद्ध व्यक्तियों के लिए जीवन की गुणवत्ता में सुधार: संयुक्त राष्ट्र वैश्विक रणनीतियों को आगे बढ़ाना (Improving the Quality of Life for Older Persons: Advancing UN Global Strategies)” था।
  • अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस 2005 का विषय (थीम) – “नए दिव्य युग में बुढ़ापा (Ageing in the new millennium)” था।
  • अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस 2004 का विषय (थीम) – “एक अंतःक्रियात्मक समाज में पुराने व्यक्ति (Older persons in an intergenerational society)” था।
  • अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस 1998 और 2000 का विषय (थीम) – “सभी उम्र के लिए एक समाज की ओर (Towards a Society for All Ages)” था।

अक्टूबर माह के महत्वपूर्ण दिवस की सूची - (राष्ट्रीय दिवस एवं अंतराष्ट्रीय दिवस):

तिथि दिवस का नाम - उत्सव का स्तर
02 अक्टूबरअन्तरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
03 अक्टूबरविश्व पर्यावास दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
04 अक्टूबरविश्व पशु कल्याण दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
05 अक्टूबरविश्व शिक्षक (अध्‍यापक) दिवस (यूनेस्‍को) - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
09 अक्टूबरविश्व डाक दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
10 अक्टूबरविश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
12 अक्टूबरविश्‍व दृष्टि दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
14 अक्टूबरविश्व मानक दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
16 अक्टूबरविश्व खाद्य दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
17 अक्टूबरअन्तरराष्ट्रीय ग़रीबी उन्‍मूलन दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
20 अक्टूबरअंतरराष्ट्रीय ऑस्टियोपोरोसिस दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
21 अक्टूबरविश्व आयोडीन कमी दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
24 अक्टूबरविश्व पोलियो दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
24 अक्टूबरविश्‍व विकास सूचना दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
30 अक्टूबरविश्‍व मितव्‍ययता (बचत) दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
31 अक्टूबरराष्ट्रीय एकता दिवस - राष्ट्रीय दिवस
(Visited 268 times, 2 visits today)
International Olders Day
You just read: International Day Of Older Persons In Hindi - IMPORTANT DAYS OF OCTOBER MONTH Topic

Like this Article? Subscribe to feed now!

Leave a Reply

Scroll to top