राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस (11 मई)


Inter National Days: National Technology Day In Hindi


राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस (11 मई): (National Technology Day in Hindi)

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस कब मनाया जाता है?

भारत में प्रत्येक वर्ष 11 मई को ‘राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस’ मनाया जाता है। यह दिवस ऑपरेशन शक्ति के परमाणु परीक्षण के पहले पांच टेस्ट की वर्षगांठ मनाने के लिए मनाया जाता है। प्रत्येक वर्ष इस दिन को अलग-अलग थीम से मनाया जाता है। 2018 के लिए भी नई थीम रखी गयी है। राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस 2018 का विषय- “एक सतत भविष्य के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी (Science and Technology for a sustainable future.)” है। इस दिन राष्ट्र गर्व के साथ अपने वैज्ञानिको की उपलब्धियों को याद करता है। इस समारोह में विभिन्न वैज्ञानिक और तकनीकि शोध संगठन पूरे देश में जश्न मनाते हैं।

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस 2018:

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस, 2018 भारत में 11 मई, शुक्रवार को मनाया गया।

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस का इतिहास: (History of National Technology Day in Hindi)

11 मई, 1 99 8 को पोखरण में आयोजित परमाणु परीक्षण को याद रखने के लिए राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस मनाया जाता है। यह भारत के सभी नागरिकों के लिए गर्व का विषय था। यह दिन हमारे दैनिक जीवन में विज्ञान के महत्व की भी प्रशंसा करता है। 1998 में 11 और 13 मई को जब भारत ने राजस्थान के पोखरण में पांच परमाणु परीक्षण किए थे। प्रारंभिक पांच परीक्षण 11 मई को आयोजित किए गए थे जब पास के भूकंपीय स्टेशनों में 5.3 रिचटर स्केल के भूकंप को रिकॉर्ड करते समय तीन परमाणु बम विस्फोट किए गए थे। 13 मई को दो परीक्षणों को बनाए रखा गया, तब से भारत में राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस मनाया जाता है।

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस के विषय (थीम): ( Themes for National Technology Day in Hindi)

  • राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस 2018 की थीम “एक सतत भविष्य के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी” है।
  • राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस 2017 की थीम “समावेशी और टिकाऊ विकास के लिए प्रौद्योगिकी” थी।
  • राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस 2016 की थीम ‘स्टार्टअप इंडिया के प्रौद्योगिकी समर्थक’ थी।
  • राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस 2014 की थीम ‘भारत के लिए समावेशी अभिनव’ थी।
  • राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस 2013 की थीम “अभिनव – एक अंतर बनाना” था।

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य: (Important facts about National Technology Day in Hindi)

  • उल्लेखनीय है कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय देश में नवाचार और प्रौद्योगिकी क्षेत्र में अर्जित उपलब्धियों के उपलक्ष्य में वर्ष 1999 से प्रत्येक वर्ष 11 मई को इस दिवस का आयोजन करता है।
  • इस अवसर पर देशभर में राष्ट्र की सेवा में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी सफलता का उत्सव मनाया गया।
  • ज्ञातव्य है कि यह दिवस 11 मई को प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में बड़ी उपलब्धि प्राप्त होने के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।
  • 11 मई, 1998 को भारत ने पोखरण (राजस्थान) में अपना दूसरा सफल परीक्षण किया गया था।
  • तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने आपरेशन ‘शक्ति’ के बाद भारत को एक पूर्णकालिक नाभिकीय देश घोषित किया था।
  • इसने भारत में नाभिकीय क्लब में शामिल होने वाले छठे देश का दर्जा दे दिया था।
  • इसके साथ ही स्वदेश निर्मित एयरक्राफ्ट ‘हंस 3’ ने इसी दिन परीक्षण उड़ान भरी थी।
  • इसके अलावा इसी दिन भारत ने त्रिशूल मिसाइल का सफल परीक्षण किया था।
  • टीडीबी इस दिन असाधारण वैज्ञानिक और तकनीकीय उपलब्धियों का पुरस्कार भी देता है। इस दिन प्रौद्योगिकी विकास बोर्ड द्वारा पुरस्कार स्वरूप 10 लाख रुपये और ट्राफी भी प्रदान की जाती है।

भारत का परमाणु परीक्षण:

भारत में प्रतिभा और क्षमता की कोई कमी नहीं है। प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में काफ़ी आगे बढ़ने के बाद भी भारत दुनिया के कई देशों से पिछड़ा हुआ है और उसे अभी बहुत-से लक्ष्य तय करने होंगे। इसीलिए ’11 मई’ का दिन प्रौद्योगिकी के लिहाज से भारत के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। इस दिन 1998 में पोखरण में न सिर्फ सफलतापूर्वक परमाणु परीक्षण किया गया, बल्कि इस दिन से शुरू हुई कड़ी 13 मई तक भारत के पांच परमाणु धमाकों में तब्दील हो चुकी थी। भारत ने न सिर्फ परमाणु विस्फोट से अपनी कुशल प्रौद्योगिकी का प्रदर्शन किया, बल्कि अपने प्रौद्योगिकी कौशल के चलते किसी को कानोंकान परमाणु परीक्षण की भनक भी नहीं लगने दी। अत्याधुनिक उपग्रहों से दुनिया के कोने-कोने की जानकारी रखने वाला अमरीका भी 11 मई, 1998 को भारतीय प्रौद्योगिकी के सामने गच्चा खा गया।

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन:

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डिफेंस रिसर्च एण्ड डेवलपमेंट ऑर्गैनाइज़ेशन) भारत की रक्षा से जुड़े अनुसंधान कार्यों के लिये देश की अग्रणी संस्था है। यह संगठन भारतीय रक्षा मंत्रालय की एक आनुषांगिक ईकाई के रूप में काम करता है। इस संस्थान की स्थापना 1958 में भारतीय थल सेना एवं रक्षा विज्ञान संस्थान के तकनीकी विभाग के रूप में की गयी थी। वर्तमान में संस्थान की अपनी इक्यावन प्रयोगशालाएँ हैं जो इलेक्ट्रॉनिक्स, रक्षा उपकरण इत्यादि के क्षेत्र में अनुसंधान में रत हैं। पाँच हजार से अधिक वैज्ञानिक और पच्चीस हजार से भी अधिक तकनीकी कर्मचारी इस संस्था के संसाधन हैं। यहां राडार, प्रक्षेपास्त्र इत्यादि से संबंधित कई बड़ी परियोजनाएँ चल रही हैं।

इसका मुख्यालय दिल्ली के राष्ट्रपति भवन के निकट ही, सेना भवन के सामने डी.आर.डी.ओ भवन में स्थित है। इसकी एक प्रयोगशाला महात्मा गाँधी मार्ग पर उत्तर पश्चिमी दिल्ली में स्थित है। संगठन का नेतृत्व रक्षा मंत्री, भारत सरकार, जो रक्षा मंत्रालय में सामान्य अनुसंधान और विकास के निदेशक तथा रक्षा अनुसंधान और विकास विभाग (डीडीआर व डी) के सचिव भी हैं, के वैज्ञानिक सलाहकार द्वारा किया जाता है।

"मई" माह में मनाये जाने वाले महत्वपूर्ण राष्ट्रीय दिवस एवं अंतराष्ट्रीय दिवस की सूची:

तिथि दिवस का नामउत्सव का स्तर
01 मईअन्तरराष्ट्रीय श्रम दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
02 मईविश्व अस्थमा दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
02 मईमई मातृ दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
03 मईविश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
08 मईविश्व रेड क्रॉस दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
11 मईराष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवसराष्ट्रीय दिवस
11 मईअन्तरराष्ट्रीय नर्स दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
15 मईअन्तरराष्ट्रीय परिवार दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
17 मईविश्व दूरसंचार दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
18 मईअन्तर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
21 मईआतंकवाद विरोधी दिवसराष्ट्रीय दिवस
22 मईअंतराराष्ट्रीय जैविक विविधता दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
31 मईविश्व तंबाकू विरोधीअन्तरराष्ट्रीय दिवस
Spread the love, Like and Share!

Like this Article? Subscribe to Our Feed!

One Comment:

  1. coreymeece4851

    I have to thank you for the efforts you have put in penning this blog. I am hoping to check out the same high-grade content from you in the future as well.

Leave a Reply

Your email address will not be published.