विश्व पर्यावरण दिवस (05 जून)


Inter National Days: World Environment Day In Hindi



विश्व पर्यावरण दिवस (05 जून): (World Environment Day in Hindi)

विश्व पर्यावरण दिवस कब मनाया जाता है?

पूरे विश्व में 05 जून को पर्यावरण की सुरक्षा और संरक्षण हेतु ‘विश्व पर्यावरण दिवस’ मनाया जाता है। विश्व पर्यावरण दिवस 2018 की थीम (विषय)- “प्लास्टिक प्रदूषण की समाप्ति” (Beat Plastic Pollution) है।

विश्व पर्यावरण दिवस का इतिहास:

इस दिवस को मनाने की घोषणा संयुक्त राष्ट्र ने पर्यावरण के प्रति वैश्विक स्तर पर राजनीतिक और सामाजिक जागृति लाने हेतु वर्ष 1972 में की थी। इसे 05 जून से 16 जून तक संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा आयोजित विश्व पर्यावरण सम्मेलन में चर्चा के बाद शुरू किया गया था। 05 जून 1974 को पहला विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया।

इसमें हर साल 143 से अधिक देश हिस्सा लेते हैं और इसमें कई सरकारी, सामाजिक और व्यावसायिक लोग पर्यावरण की सुरक्षा, समस्या आदि विषय पर बात करते हैं। इस दिन लोगों को जागरूक करने के लिए काई प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं जैसे कि पेड लगाना, लोगों को इनकी महत्‍वता बताना आदि

विश्व पर्यावरण दिवस का विषय (थीम):

वैश्विक स्तर पर पर्यावरणीय मुद्दों को बताने में बड़ी संख्या में भाग लेने के लिये पूरे विश्वभर में बड़ी संख्या में लोगों को बढ़ावा देने के द्वारा उत्सव को ज्यादा असरदार बनाने के लिये संयुक्त राष्ट्र के द्वारा निर्धारित खास थीम पर हर वर्ष का विश्व पर्यावरण दिवस उत्सव आधारित होता है।

विभिन्न वर्षों के आधार पर दिये गये थीम और नारे यहाँ सूचीबद्ध है:

  • वर्ष 2018 का थीम है “प्लास्टिक प्रदूषण की समाप्ति” (Beat Plastic Pollution)।
  • वर्ष 2017 का थीम है “कनेक्टिंग पीपुल टू नेचर”।
  • वर्ष 2016 का थीम है “दुनिया को एक बेहतर जगह बनाने के लिए दौड़ में शामिल हों”।
  • वर्ष 2015 का थीम था “एक विश्व, एक पर्यावरण।”
  • वर्ष 2014 का थीम था “छोटे द्वीप विकसित राज्य होते है” या “एसआइडीएस” और “अपनी आवाज उठाओ, ना कि समुद्र स्तर।”
  • वर्ष 2013 का थीम था “सोचो, खाओ, बचाओ” और नारा था “अपने फूडप्रिंट को घटाओ।”
  • वर्ष 2012 का थीम था “हरित अर्थव्यवस्था: क्यो इसने आपको शामिल किया है?”
  • वर्ष 2011 का थीम था “जंगल: प्रकृति आपकी सेवा में।”
  • वर्ष 2010 का थीम था “बहुत सारी प्रजाति। एक ग्रह। एक भविष्य।”
  • वर्ष 2009 का थीम था “आपके ग्रह को आपकी जरुरत है- जलवायु परिवर्तन का विरोध करने के लिये एक होना।”
  • वर्ष 2008 का थीम था “CO2, आदत को लात मारो- एक निम्न कार्बन अर्थव्यवस्था की ओर।”
  • वर्ष 2007 का थीम था “बर्फ का पिघलना- एक गंभीर विषय है?”
  • वर्ष 2006 का थीम था “रेगिस्तान और मरुस्थलीकरण” और नारा था “शुष्क भूमि पर रेगिस्तान मत बनाओ।”
  • वर्ष 2005 का थीम था “हरित शहर” और नारा था “ग्रह के लिये योजना बनाये।”
  • वर्ष 2004 का थीम था “चाहते हैं! समुद्र और महासागर” और नारा था “मृत्यु या जीवित?”
  • वर्ष 2003 का थीम था “जल” और नारा था “2 बिलीयन लोग इसके लिये मर रहें हैं।”
  • वर्ष 2002 का थीम था “पृथ्वी को एक मौका दो।”
  • वर्ष 2001 का थीम था “जीवन की वर्ल्ड वाइड वेब।”
  • वर्ष 2000 का थीम था “पर्यावरण शताब्दी” और नारा था “काम करने का समय।”
  • वर्ष 1999 का थीम था “हमारी पृथ्वी- हमारा भविष्य” और नारा था “इसे बचायें।”
  • वर्ष 1998 का थीम था “पृथ्वी पर जीवन के लिये” और नारा था “अपने सागर को बचायें।”
  • वर्ष 1997 का थीम था “पृथ्वी पर जीवन के लिये।”
  • वर्ष 1996 का थीम था “हमारी पृथ्वी, हमारा आवास, हमारा घर।”
  • वर्ष 1995 का थीम था “हम लोग: वैश्विक पर्यावरण के लिये एक हो।”
  • वर्ष 1994 का थीम था “एक पृथ्वी एक परिवार।”
  • वर्ष 1993 का थीम था “गरीबी और पर्यावरण” और नारा था “दुष्चक्र को तोड़ो।”
  • वर्ष 1992 का थीम था “केवल एक पृथ्वी, ध्यान दें और बाँटें।”
  • वर्ष 1991 का थीम था “जलवायु परिवर्तन। वैश्विक सहयोग के लिये जरुरत।”
  • वर्ष 1990 का थीम था “बच्चे और पर्यावरण।”
  • वर्ष 1989 का थीम था “ग्लोबल वार्मिंग; ग्लोबल वार्मिंग।”
  • वर्ष 1988 का थीम था “जब लोग पर्यावरण को प्रथम स्थान पर रखेंगे, विकास अंत में आयेगा।”
  • वर्ष 1987 का थीम था “पर्यावरण और छत: एक छत से ज्यादा।”
  • वर्ष 1986 का थीम था “शांति के लिये एक पौधा।”
  • वर्ष 1985 का थीम था “युवा: जनसंख्या और पर्यावरण।”
  • वर्ष 1984 का थीम था “मरुस्थलीकरण।”
  • वर्ष 1983 का थीम था “खतरनाक गंदगी को निपटाना और प्रबंधन करना: एसिड की बारिश और ऊर्जा।”
  • वर्ष 1982 का थीम था “स्टॉकहोम (पर्यावरण चिंताओं का पुन:स्थापन) के 10 वर्ष बाद।”
  • वर्ष 1981 का थीम था “जमीन का पानी; मानव खाद्य श्रृंखला में जहरीला रसायन।”
  • वर्ष 1980 का थीम था “नये दशक के लिये एक नयी चुनौती: बिना विनाश के विकास।”
  • वर्ष 1979 का थीम था “हमारे बच्चों के लिये केवल एक भविष्य” और नारा था “बिना विनाश के विकास।”
  • वर्ष 1978 का थीम था “बिना विनाश के विकास।”
  • वर्ष 1977 का थीम था “ओजोन परत पर्यावरण चिंता; भूमि की हानि और मिट्टी का निम्निकरण।”
  • वर्ष 1976 का थीम था “जल: जीवन के लिये एक बड़ा स्रोत।”
  • वर्ष 1975 का थीम था “मानव समझौता।”
  • वर्ष 1974 का थीम था “ ’74’ के प्रदर्शन के दौरान केवल एक पृथ्वी।”
  • वर्ष 1973 का थीम था “केवल एक पृथ्वी।”

पर्यावरण प्रदूषण के प्रकार: (Types of Pollution in Hindi):

आधुनिक युग में पर्यावरण प्रदूषण कई कारणों से फैलता है, जैसे :-

  • वायु प्रदूषण।
  • जल का प्रदूषण।
  • मिट्टी का प्रदूषण।
  • तापीय प्रदूषण।
  • विकरणीय प्रदूषण।
  • औद्योगिक प्रदूषण।
  • समुद्रीय प्रदूषण।
  • रेडियोधर्मी प्रदूषण।
  • नगरीय प्रदूषण।
  • प्रदूषित नदिया।

जून माह के महत्वपूर्ण दिवस की सूची - (राष्ट्रीय दिवस एवं अंतराष्ट्रीय दिवस):

तिथि दिवस का नाम - उत्सव का स्तर
01 जूनअन्तरराष्ट्रीय बाल रक्षा दिवस, - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
01 जून विश्व दुग्ध दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
05 जूनविश्व पर्यावरण दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
08 जूनविश्व महासागर दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
08 जूनविश्व ब्रेन ट्यूमर दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
10 जूनदृष्टिदान संकल्प दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
12 जूनविश्व बालश्रम निषेध दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
14 जूनविश्व रक्तदान दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
17 जूनविश्‍व रेगिस्‍तान तथा सूखा रोकथाम दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
18 जूनअंतर्राष्ट्रीय पिकनिक दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
19 जूनविश्व एथनिक दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
20 जूनविश्व शरणार्थी (रिफ्यूजी) दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
21 जूनअंतरराष्ट्रीय योग दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
21 जूनविश्व संगीत दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
23 जूनसंयुक्त राष्ट्र लोक सेवा दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
23 जूनअन्तरराष्ट्रीय विधवा दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
26 जूनअन्तरराष्ट्रीय मादक द्रव्य निषेध (नशा मुक्ति/निवारण) दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
तीसरा रविवार जूनफादर्स दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
Spread the love, Like and Share!
  • 27
    Shares

Like this Article? Subscribe to Our Feed!

Leave a Reply

Your email address will not be published.