विश्व हीमोफीलिया दिवस (17 अप्रैल) – World Hemophilia Day in Hindi

विश्व हीमोफीलिया दिवस (17 अप्रैल): (17 April: World Hemophilia Day in Hindi)

विश्व हीमोफीलिया दिवस कब मनाया जाता है?

संपूर्ण विश्व में 17 अप्रैल को ‘विश्व हीमोफीलिया दिवस’ मनाया जाता है। विश्व हीमोफीलिया दिवस 2019 का मुख्य विषय (Theme)- ‘‘रिचिंग आउट: द फ़र्स्ट स्टेप टू केयर’’  है। यह दिवस हीमोफीलिया तथा अन्य आनुवंशिक खून बहने वाले विकारों के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए प्रतिवर्ष मनाया जाता है।

विश्व हीमोफीलिया दिवस का इतिहास:

‘शाही बीमारी’ कहे जाने वाले रोग ‘हीमोफ़ीलिया’ का पता सर्वप्रथम उस वक्त चला था, जब ब्रिटेन की महारानी विक्टोरिया के वंशज एक के बाद एक इस बीमारी की चपेट में आने लगे। शाही परिवार के कई सदस्यों के हीमोफ़ीलिया से पीड़ित होने के कारण ही इसे ‘शाही बीमारी’ कहा जाने लगा था। पुरुषों में इस बीमारी सम्भावना सबसे अधिक होती है। इस समय विश्वभर में लगभग 50 हज़ार से ज़्यादा लोग इस रोग से पीड़ित हैं।

दुनियाभर में हीमोफीलिया के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए 1989 से ‘विश्व हीमोफ़ीलिया दिवस’ मनाने की शुरुआत की गई। तब से हर साल ‘वर्ल्ड फ़ेडरेशन ऑफ़ हीमोफ़ीलिया’ (डब्ल्यूएफएच) के संस्थापक फ्रैंक कैनेबल के जन्मदिन 17 अप्रैल के दिन ‘विश्व हीमोफ़ीलिया दिवस मनाया जाता है। फ्रैंक की 1987 में संक्रमित ख़ून के कारण एड्स होने से मौत हो गई थी।

हीमोफीलिया रोग का अर्थ और महत्वपूर्ण तथ्य:

  • हीमोफीलिया खून के थक्के बनने की क्षमता को प्रभावित करने वाला एक आनुवंशिक रोग है, जो माता पिता से बच्चों में पहुंचती है।
  • यह बीमारी रक्त में थ्राम्बोप्लास्टिन (Thromboplastin) नामक पदार्थ की कमी से होती है। थ्राम्बोप्लास्टिक में खून को शीघ्र थक्का कर देने की क्षमता होती है। खून में इसके न होने से खून का बहना बंद नहीं होता है।
  • इस रोग के वाहक x-गुणसूत्र में पाए जाते है।
  • हीमोफीलिया से पीड़ित व्यक्ति को अन्य सामान्य व्यक्तियों की तुलना में चोट लगने पर अधिक खून बहता है।
  • इस बीमारी से महिलाओं की तुलना में पुरुषों के प्रभावित होने की संभावना अधिक होती है।
  • इस समय विश्वभर में लगभग 50 हज़ार से ज़्यादा लोग इस रोग से पीड़ित हैं।
  • इस रोग का मुख्य कारण एक रक्त में पायी जाने वाली एक प्रकार की प्रोटीन (Thromboplastin) की कमी से होती है, जिसे ‘क्लॉटिंग फैक्टर’ कहा जाता है।

हीमोफीलिया रोग के प्रकार:

यह रोग दो प्रकार का होता है:-

1. ‘हीमोफीलिया ए’, 2. ‘हीमोफीलिया बी’

हीमोफ़ीलिया ‘ए’ सामान्य रूप से पाई जाने वाली बीमारी है। इसमें रक्त में थक्के बनने के लिए आवश्यक ‘फैक्टर 8’ की कमी हो जाती है। हीमोफ़ीलिया ‘बी’ में ख़ून में ‘फैक्टर 9’ की कमी हो जाती है। पांच हज़ार से दस हज़ार पुरुषों में से एक के हीमोफ़ीलिया ‘ए’ ग्रस्त होने का खतरा रहता है, जबकि 20,000 से 34,000 पुरुषों में से एक के हीमोफ़ीलिया ‘बी’ ग्रस्त होने का खतरा रहता है।

एक में फैक्टर-8 की कमी होती है जो ज्यादा घातक होती है। बी में फैक्टर-9 की कमी होती है। फैक्टर-8 की कमी या मात्रा के अनुसार बीमारी की तीब्रता का निर्धारण होता है। जैसे फैक्टर-8 अथवा 9 का लेबल 2 प्रतिशत से कम है तो बीमारी अत्यन्त गंभीर मानी जाती है। इसमें अपनेआप रक्तश्राव शुरू हो जाता है। जो मसल्स और जोड़ो पर चकत्ते के रूप में दिखाई देता है। प्रायः ऐसे बच्चों की बचपन में ही मौत हो जाती है। यदि मात्रा 2 से 8 प्रतिशत के बीच है तो मरीज गंभीर होता है। ऐसे लोगों में थोड़ी सी चोट में रक्तश्राव की प्रबल संभावना होती है। पैर की मांसपेशियों और अन्य अंगों में रक्तश्राव का खतरा होता है। यदि इसकी मात्रा 10 से 50 प्रतिशत के बीच है तो स्वतः रक्तश्राव नहीं होता है लेकिन सर्जरी के समय जान जाने का खतरा बना होता है।

हीमोफीलिया के लक्षण:

  • आसानी से खरोंच लगने की आदत।
  • नाक से खून बहना, जो कि आसानी से बंद नहीं होता है।
  • दंत चिकित्सा जैसे कि दाँत निकालते समय और रूट कैनाल के उपचार के दौरान अत्याधिक खून बहना।
  • जोड़ों में सूजन अथवा असहनीय पीड़ा होना।
  • पेशाब के रास्ते खून बहना।

हीमोफीलिया रोग का उपचार:
चूंकि यह बीमारी आनुवंशिक है जो जन्मजात होती है इसलिए इसका इलाज जेनटिक इंजीनियरिंग के विकास के साथ संभव हुआ है। वर्तमान समय में मरीजों का उपचार फैक्टर-8 (काबुलेशन फैक्टर) को ट्रांसफ्यूज करके किया जाता है। जिन जगहों पर काबुलेशन फैक्टर उपलब्ध नहीं है। वहां फ्रेश फ्रोजेन प्लाज्मा (एफएफपी) से करते है। जो रक्त का सफेद अवयव है को ट्रांसफ्यूज किया जाता है।

अप्रैल माह के महत्वपूर्ण दिवस की सूची - (राष्ट्रीय दिवस एवं अंतराष्ट्रीय दिवस):

तिथि दिवस का नाम - उत्सव का स्तर
02 अप्रैलविश्व ऑटिज्म जागरूकता दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
05 अप्रैलराष्ट्रीय समुद्री दिवस - राष्ट्रीय दिवस
06 अप्रैलविकास एवं शांति के लिए अन्तरराष्ट्रीय खेल दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
07 अप्रैलविश्व स्वास्थ्य दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
10 अप्रैलविश्व होम्योपैथी दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
17 अप्रैलविश्व हीमोफिलिया दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
18 अप्रैलविश्‍व विरासत (धरोहर) दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
21 अप्रैलभारतीय सिविल सेवा दिवस - राष्ट्रीय दिवस
22 अप्रैलअन्तरराष्ट्रीय मातृ पृथ्वी दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
23 अप्रैलविश्व पुस्तक दिवस अथवा विश्व पुस्तक कॉपीराइट (प्रतिलिप्‍याधिकार) दिवस (यूनेस्‍को) - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
24 अप्रैलपंचायती राज दिवस - राष्ट्रीय दिवस
25 अप्रैलविश्व मलेरिया दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस
29 अप्रैलविश्व नृत्य दिवस - अन्तरराष्ट्रीय दिवस

Like this Article? Subscribe to Our Feed!

Leave a Reply

Your email address will not be published.