विश्व तंबाकू निषेध दिवस (31 मई)

Inter National Days: World No Tobacco Day In Hindi

विश्व धूम्रपान निषेध दिवस (31 मई): (World No Tobacco Day in Hindi)

विश्व धूम्रपान निषेध दिवस कब मनाया जाता है?

दुनिया भर में हर साल 31 मई को ‘विश्व धूम्रपान निषेध दिवस’ या ‘विश्व तम्बाकू निषेध दिवस’ अथवा ‘अंतर्राष्ट्रीय तंबाकू निषेध दिवस’ मनाया जाता हैं। विश्व धूम्रपान निषेध दिवस वर्ष 2018 का विषय- “तंबाकू और हृदय रोग” (Tobacco and heart disease) हैं।

विश्व धूम्रपान निषेध दिवस का इतिहास:

तम्बाकू से होने वाले नुक़सान को देखते हुए साल 1987 में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के सदस्य देशों ने एक प्रस्ताव पारित किया, जिसके द्वारा 07 अप्रैल, 1988 से इस दिवस को मनाने का फ़ैसला किया गया। इसके बाद हर 31 मई को तम्बाकू निषेध दिवस मनाने का फ़ैसला किया गया।

विश्व धूम्रपान निषेध दिवस के विषय:

विश्व तंबाकू निषेध दिवस को पूरे विश्व भर में प्रभावशाली तरीके से मनाने के लिये, अधिक जागरुकता के लिये लोगों में एक वैश्विक संदेश फैलाने के लिये केन्द्रिय अंग के रुप में हर साल एक खास विषय का डबल्यूएचओ चुनाव करता है। विश्व तंबाकू निषेध दिवस के उत्सव को आयोजित करने वाले सदस्यों को इस विषय पर दूसरे प्रचारक वस्तुएँ जैसे ब्रौचर, पोस्टर, फ्लायर्स, प्रेस विज्ञप्ति, वेबसाइट्स आदि भी डबल्यूएचओ के द्वारा उपलब्ध कराया जाता है।

यहाँ वर्ष 1987 से 2018 के विश्व धूम्रपान निषेध दिवस के विषय (थीम):-

  • वर्ष 1987 का विषय- “प्रथम धूम्रपान रहित ओलंपिक (1988 ओलंपिक शीत ऋतु- कैलगैरी)।”
  • वर्ष 1988 का विषय- “तंबाकू या स्वास्थ्य: स्वास्थ्य को चुनें।”
  • वर्ष 1989 का विषय- “तंबाकू और महिलाएँ: महिला धुम्रपान करने वाली: जोखिम को बढ़ाती हुयी।”
  • वर्ष 1990 का विषय- “बचपन और युवा बिना तंबाकू के: बिना तंबाकू के बड़ा होना।”
  • वर्ष 1991 का विषय- “सार्वजनिक स्थल और परिवहन: तंबाकू मुक्त बेहतर होता है।”
  • वर्ष 1992 का विषय- “तंबाकू मुक्त कार्यस्थल: सुरक्षित और स्वास्थ्यकर।”
  • वर्ष 1993 का विषय- “स्वास्थ्य सेवा: एक तंबाकू मुक्त विश्व लिये हमारी खिड़की।”
  • वर्ष 1994 का विषय- “मीडिया और तंबाकू: संदेश को सभी ओर भेजो।”
  • वर्ष 1995 का विषय- “आपकी सोच से ज्यादा होता है तंबाकू की कीमत।”
  • वर्ष 1997 का विषय- “तंबाकू मुक्त विश्व के लिये एकजुट हों।”
  • वर्ष 1998 का विषय- “तंबाकू के बिना बड़ा होना।”
  • वर्ष 1999 का विषय- “डिब्बे को पीछे छोड़ो।”
  • वर्ष 2000 का विषय- “तंबाकू मारता है, बेवकूफ मत बनो।”
  • वर्ष 2001 का विषय- “दूसरों से प्राप्त धुँआ मारता है।”
  • वर्ष 2002 का विषय- “तंबाकू मुक्त खेल।”
  • वर्ष 2003 का विषय- “तंबाकू मुक्त फिल्म, तंबाकू मुक्त फैशन।”
  • वर्ष 2004 का विषय- “तंबाकू और गरीबी, एक पापमय वृत।”
  • वर्ष 2005 का विषय- “तंबाकू के खिलाफ स्वास्थ्य पेशेवर।”
  • वर्ष 2006 का विषय- “तंबाकू: किसी भी रुप या वेश में मौत।”
  • वर्ष 2007 का विषय- “अंदर से तंबाकू मुक्त।”
  • वर्ष 2008 का विषय- “तंबाकू मुक्त युवा।”
  • वर्ष 2009 का विषय- “तंबाकू स्वास्थ्य चेतावनी।”
  • वर्ष 2010 का विषय- “महिलाओं के लिये व्यापार पर जोर के साथ लिंग और तंबाकू।”
  • वर्ष 2011 का विषय- “तंबाकू नियंत्रण पर डबल्यूएचओ रुपरेखा सम्मेलन।”
  • वर्ष 2012 का विषय- “तंबाकू उद्योग हस्तक्षेप।”
  • वर्ष 2013 का विषय- “तंबाकू के विज्ञापन, प्रोत्साहन और प्रायोजन पर बैन।”
  • वर्ष 2014 का विषय- “तंबाकू पर ‘कर’ बढ़ाओ।”
  • वर्ष 2015 का विषय- “तंबाकू उत्पादों के अवैध व्यापार को रोकना।”
  • वर्ष 2016 का विषय- “तंबाकू उत्पादों पर प्लेन पैकेजिग”।
  • वर्ष 2017 का विषय- “विकास में बाधक तम्बाकू उत्पाद”।
  • वर्ष 2018 का विषय- “तंबाकू और हृदय रोग”।

धूम्रपान से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य:

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक दुनिया के करीब 125 देशों में तंबाकू का उत्पादन होता है।
  • दुनियाभर में हर साल करीब 5.5 खरब सिगरेट का उत्पादन होता है और एक अरब से ज्यादा लोग इसका सेवन करते हैं।
  • रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया भर में 80 फीसदी पुरुष तंबाकू का सेवन करते हैं, लेकिन कुछ देशों में महिलाओं में धूम्रपान करने की आदत काफी बढ़ी है।
  • दुनियाभर में धूम्रपान करने वालों का करीब 10 फीसदी भारत में है, रिपोर्ट के अनुसार भारत में करीब 25 हजार लोग गुटखा, बीडी, सिगरेट, हुक्का आदि के जरिये तंबाकू का सेवन करते हैं।
  • भारत में 10 अरब सिगरेट और 72 करोड़ 50 लाख किलो तंबाकू का उत्पादन होता है।
  • भारत तंबाकू निर्यात के मामले में ब्राजील, चीन, अमेरिका, मलावी और इटली के बाद छठे नंबर पर है।
  • विकासशील देशों में हर साल 8 हजार बच्चों की मौत अभिभावकों द्वारा किए जाने वाले धूम्रपान के कारण होती है।
  • दुनिया के किसी अन्य देश के मुक़ाबले में भारत में तंबाकू से होने वाली बीमारियों से मरने वाले लोगों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है।

तंबाकू के सेवन से होने वाले नुकसान:

तंबाकू के नियमित सेवन से फेफड़ों के कैंसर होने का सबसे ज्यादा खतरा रहता है। ऐसा इसलिए क्योंकि तंबाकू में क्रोमियम, आर्सेनिक, बंजोपाइरींस, निकोटीन, नाइट्रोसामाइंस जैसे तत्व बहुत अधिक मात्रा में पाए जाते हैं।

  • किसी भी प्रकार का धूम्रपान 90 प्रतिशत से अधिक फेफड़े के कैंसर, ब्रेन हेमरेज और पक्षाघात का प्रमुख कारण है।
  • सिगरेट व तंबाकू –  मुंह , मेरूदंड, कंठ और मूत्राशय के कैंसर के रूप में प्रभावी होता है ।
  • सिगरेट व तंबाकू में मौजूद कैंसरजन्य पदार्थ शरीर की कोशिकाओं के विकास को रोककर उनके नष्ट होने और कैंसर के बनने में मदद करता है।
  • लंबे समय तक धूम्रपान करने से मुंह, गर्भाशय, गुर्दे और पाचक ग्रंथि में कैंसर होने की अत्यधिक संभावना होती है।
  • धूम्रपान का सेवन और न चाहते हुए भी उसके धुंए का सामना, हृदय और मस्तिष्क की बीमारियों का मुख्य कारण है।
  • धूम्रपान के धूएं में मौजूद निकोटीन, कार्बन मोनो आक्साइड जैसे पदार्थ हृदय, ग्रंथियों और धमनियों से संबंधित रोगों के कारण हैं।
  • तंबाकू खाने से धीरे-धीरे व्यक्ति का शरीर खराब हो जाता है। साथ ही यह दिमाग पर भी बुरा असर डालता है।

तंबाकू से होने वाली परेशानियाँ (दिक्कतें):

  • सांस लेने में परेशानी।
  • भूख न लगना।
  • थकान रहना।
  • ठीक प्रकार से नींद न आना।
  • तनाव रहना।
  • गले से जुड़ी समस्या होना।
  • लंबे समय तक खांसी होना।
  • कभी-कभी खांसते समय खून आना।
  • कैंसर होने का खतरा।

नशे की आदत को कैसे छोड़ सकते है?

अगर नीचे दिए गए उपाय करेंगे तो आप नशे की आदत या लत को आसानी से छोड़ सकते हैं:-

  • सबसे पहले मन में ठान लें कि धूम्रपान छोड़ना है।
  • चिकित्सीय विधियों का सहारा ले सकते हैं।
  • नशामुक्ति केंद्रों की मदद ली जा सकती है।
  • नशा छोड़ने के लिए च्यूइंगम, स्प्रे या इनहेलर का भी सहारा ले सकते हैं।
  • आहार में एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर चीजों को शामिल करें।
  • तंबाकू छोड़ने के लिए ज्यादा से ज्यादा व्यस्त रहने की कोशिश करें।

"मई" माह में मनाये जाने वाले महत्वपूर्ण राष्ट्रीय दिवस एवं अंतराष्ट्रीय दिवस की सूची:

तिथि दिवस का नामउत्सव का स्तर
01 मईअन्तरराष्ट्रीय श्रम दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
02 मईविश्व अस्थमा दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
02 मईमई मातृ दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
03 मईविश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
08 मईविश्व रेड क्रॉस दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
11 मईराष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवसराष्ट्रीय दिवस
11 मईअन्तरराष्ट्रीय नर्स दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
15 मईअन्तरराष्ट्रीय परिवार दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
17 मईविश्व दूरसंचार दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
18 मईअन्तर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
21 मईआतंकवाद विरोधी दिवसराष्ट्रीय दिवस
22 मईअंतराराष्ट्रीय जैविक विविधता दिवसअन्तरराष्ट्रीय दिवस
31 मईविश्व तंबाकू विरोधीअन्तरराष्ट्रीय दिवस

सामान्य ज्ञान अपनी ईमेल पर पाएं!

Leave a Reply

Your email address will not be published.