विश्‍व बचत (मितव्‍ययता) दिवस (31 अक्टूबर)

Inter National Days: World Saving Day In Hindi

विश्व बचत दिवस (31 अक्टूबर):  (31 October: World Saving Day in Hindi)

विश्व बचत दिवस कब मनाया जाता है?

प्रत्येक वर्ष 31 अक्टूबर को ‘विश्व बचत दिवस’ मनाया जाता है। इस दिवस की स्थापना 31 अक्टूबर, 1924 को इटली से हुई।

विश्व बचत दिवस दिवस का उद्देश्य:

विश्व बचत दिवस सभी व्यक्तियों और समस्त राष्ट्रों की बचत एवं वित्तीय सुरक्षा को बढ़ावा देने के लिए विश्वभर में प्रतिवर्ष 31 अक्टूबर को मनाया जाता है। इस दिवस को मनाने का उद्देश्य हमारे व्यवहार को बचत की दिशा में बदलना तथा हमें लगातार धन के महत्व की याद दिलाना है।

विश्व बचत दिवस दिवस का इतिहास:

प्रथम अंतर्राष्ट्रीय बचत कांग्रेस का आयोजन मिलान में किया गया था। इटली ने वर्ष 1924 में 31 अक्टूबर को विश्व बचत दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की थी।  विश्व बचत दिवस की स्थापना दुनिया भर के लोगों को अपने पैसे की बचत, घर पर या अपने गद्दे के नीचे रखकर करने के बजाए बैंक में जमा करने के विचार के बारे में सूचित करने के लिए की गई थी।

भारत में विश्व बचत दिवस कब मनाया जाता है?

31 अक्टूबर 1984 को तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी के निधन के कारण सारे भारत में विश्व बचत दिवस प्रतिवर्ष 30 अक्टूबर को मनाया जाता हैं।

बचत का धन वित्तीय संकट का सामना करने के दौरान सुरक्षा गार्ड का कार्य करता हैं। यह हमें व्यवसाय की शुरुआत करने, अच्छी शिक्षा प्राप्त करने तथा अच्छे स्वास्थ्य उपचार का लाभ उठाने में भी मदद करता है। बचत की आदत व्यक्ति के साथ-साथ देश दोनों को स्वतंत्रता प्रदान करती है।

स्वास्थ्य कैसे धन बनता है?

  • स्वस्थ जीवन शैली धन को बढ़ावा दे सकती है।
  • स्वास्थ्य में सुधार, स्वास्थ्य खर्चों को कम कर सकता है।
  • बचत में बढ़ोत्तरी से ऋण से बचाव एवं तनाव को दूर किया जा सकता है।
  • यह आपको स्वास्थ्य आपातकालीन स्थिति के लिए तैयार करता हैं।
  • बचत मानसिक सुरक्षा के साथ-साथ सामाजिक सुरक्षा भी प्रदान करती है।
  • बचत लंबा जीवनयापन करने के लिए सकारात्मक रवैये का नेतृत्व भी करती है।
  • स्वस्थ जीवन शैली, कई जानलेवा रोगों जैसे कि दिल का दौरा, स्ट्रोक, कैंसर तथा अन्य रोगों के जोखिम को कम करती है।
  • चिकित्सा बीमा के लिए हमेशा जाएँ।

हम पैसे की बचत कैसे कर सकते हैं?

  • हम अपने खर्चों को नियंत्रित करके बचत शुरू कर सकते है।
  • बजट बनाएं।
  • बुद्धिमानी से खर्च करें।
  • केवल आवश्यक एवं ज़रूरत की चीजें ही खरीदें। ‘ज़रूरत’ व ‘लालच’ के बीच भेद करें।
  • आत्मनिर्भर बनें।
  • अपने बिजली, पानी तथा अन्य बिलों के बजट में कटौती करें।
  • बचत के लिए अपना लक्ष्य निर्धारित करें।
  • निवेश करें।

सामान्य ज्ञान अपनी ईमेल पर पाएं!

Leave a Reply

Your email address will not be published.