इस अध्याय के माध्यम से हम जानेंगे अमृता प्रीतम (Amrita Pritam) से जुड़े महत्वपूर्ण एवं रोचक तथ्य जैसे उनकी व्यक्तिगत जानकारी, शिक्षा तथा करियर, उपलब्धि तथा सम्मानित पुरस्कार और भी अन्य जानकारियाँ। इस विषय में दिए गए अमृता प्रीतम से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों को एकत्रित किया गया है जिसे पढ़कर आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में मदद मिलेगी। Amrita Pritam Biography and Interesting Facts in Hindi.

अमृता प्रीतम का संक्षिप्त सामान्य ज्ञान

नामअमृता प्रीतम (Amrita Pritam)
जन्म की तारीख01 अगस्त
जन्म स्थानपंजाब,मंडी बहाउद्दीन
निधन तिथि31 अक्टूबर
माता व पिता का नामराज कौर / करतार सिंह हितकरी
उपलब्धि1956 - साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित प्रथम भारतीय महिला
पेशा / देशमहिला / कवि / भारत

अमृता प्रीतम - साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित प्रथम भारतीय महिला (1956)

यह एक भारतीय लेखक और कवि थी। अमृता प्रीतम को पंजाबी भाषा की पहली कवयित्री माना जाता है। उन्होंने कुल मिलाकर लगभग 100 पुस्तकें लिखी हैं जिनमें उनकी चर्चित आत्मकथा ‘रसीदी टिकट" भी शामिल है। इनकी कृतियों का अनेक भाषाओं में अनुवाद हुआ था| उन्हें अपनी पंजाबी कविता अज्ज आखाँ वारिस शाह नूँ के लिए बहुत प्रसिद्धी प्राप्त हुई थी| 1982 में इन्हें भारत के सर्वोच्च साहित्त्यिक पुरस्कार ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था|

अमृता प्रीतम का जन्म 31 अगस्त 1919 पंजाब (भारत) के गुजराँवाला को हुआ था। इनकी माता का नाम राज कौर और पिता का नाम करतार सिंह हितकारी था| इनके पिता एक बहुत बड़े कवि थे और इनकी माता स्कूल में स्कूल शिक्षक थी| अमृता प्रीतम अपने माता पिता की इकलोती संतान थी|
अमृता प्रीतम ने लम्बी बीमारी के बाद 31 अक्टूबर, 2005 को अपने प्राण त्यागे। वे 86 साल की थीं और दक्षिणी दिल्ली के हौज़ ख़ास इलाक़े में रहती थीं। अब वे हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनकी कविताएँ, कहानियाँ, नज़्में और संस्मरण सदैव ही हमारे बीच रहेंगे। अमृता प्रीतम जैसे साहित्यकार रोज़-रोज़ पैदा नहीं होते, उनके जाने से एक युग का अन्त हुआ है। अब वे हमारे बीच नहीं हैं लेकिन उनका साहित्य हमेशा हम सबके बीच में ज़िन्दा रहेगा और हमारा मार्गदर्शन करता रहेगा।
उनकी पहली कविताएँ, अमृत लेहरन ("अमर तरंगें") 1936 में प्रकाशित हुईं, सोलह वर्ष की आयु में, उन्होंने प्रीतम सिंह से शादी की, जिनसे वह बचपन में ही जुड़ी हुई थीं और उन्होंने अमृत कौर से अपना नाम बदलकर अमृता कर लिया था। प्रीतम। 1936 और 1943 के बीच कविताओं के आधा दर्जन संग्रह का अनुसरण किया गया। यद्यपि उसने एक रोमांटिक कवि के रूप में अपनी यात्रा शुरू की, जल्द ही उसने गियर्स को स्थानांतरित कर दिया, और प्रगतिशील लेखकों के आंदोलन का हिस्सा बन गया और इसका प्रभाव उसके संग्रह लोक पे ("पीपुल्स एंगुइश", 1944) में देखा गया, जिसने खुले तौर पर युद्ध की आलोचना की- 1943 के बंगाल के अकाल के बाद फटी हुई अर्थव्यवस्था। वह कुछ हद तक सामाजिक कार्यों में भी शामिल थीं और आजादी के बाद ऐसी गतिविधियों में पूरे दिल से भाग लिया, जब सामाजिक कार्यकर्ता गुरु राधा किशन ने दिल्ली में पहली कैंब्रिज लाइब्रेरी लाने की पहल की, जो थी बलराज साहनी और अरुणा आसफ अली ने उद्घाटन किया और इस अवसर पर योगदान दिया। यह अध्ययन केंद्र सह पुस्तकालय अभी भी क्लॉक टॉवर, दिल्ली में चल रहा है। उन्होंने भारत के विभाजन से पहले कुछ समय के लिए लाहौर के एक रेडियो स्टेशन में भी काम किया था। 1947 में भारत के विभाजन के बाद हुई सांप्रदायिक हिंसा से दस लाख लोग, हिंदू, सिख और मुसलमान मारे गए, और 28 साल की उम्र में अमृता प्रीतम को पंजाबी शरणार्थी छोड़ दिया, जब वह लाहौर छोड़कर नई दिल्ली चली गईं थी। अमृता प्रीतम ने 1961 तक ऑल इंडिया रेडियो, दिल्ली की पंजाबी सेवा में काम किया। 1960 में तलाक के बाद, उनका काम अधिक नारीवादी हो गया। उनकी कई कहानियाँ और कविताएँ उनकी शादी के दुखी अनुभव पर आकर्षित हुईं। उनके कई कार्यों का अंग्रेजी, फ्रेंच, डेनिश, जापानी, मंदारिन, और पंजाबी और उर्दू से अन्य भाषाओं में अनुवाद किया गया है, जिसमें उनकी आत्मकथात्मक रचनाएं ब्लैक रोज और रसीडी टिकट (राजस्व टिकट) शामिल हैं।
अमृता जी को कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कारों से भी सम्मानित किया गया, जिनमें प्रमुख हैं 1956 में साहित्य अकादमी पुरस्कार, 1958 में पंजाब सरकार के भाषा विभाग द्वारा पुरस्कार, 1988 में बल्गारिया वैरोव पुरस्कार; (अन्तर्राष्ट्रीय) और 1982 में भारत के सर्वोच्च साहित्यिक पुरस्कार ज्ञानपीठ पुरस्कार। वे पहली महिला थीं जिन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला और साथ ही साथ वे पहली पंजाबी महिला थीं जिन्हें 1969 मेंपद्मश्री सम्मान से सम्मानित किया गया।
वर्षपुरस्कार और सम्मानपुरस्कार देने वाला देश एवं संस्था
1956साहित्य अकादमी पुरस्कारसाहित्य अकादमी, भारत सरकार
1969पद्मश्रीभारत सरकार
1973डॉक्टर ऑफ़ लिटरेचरदिल्ली युनिवर्सिटी
1973डॉक्टर ऑफ़ लिटरेचरजबलपुर युनिवर्सिटी
1979ऑर्ड्रे डेस आर्ट्स एट डेस लेट्रेस (ऑफिसर) की उपाधिफ्रेंच सरकार
1988अंतर्राष्ट्रीय वापत्सरोव पुरस्कारबुल्गारिया
1982भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कारभारत सरकार
1987डॉक्टर ऑफ़ लिटरेचरविश्व भारती शांतिनिकेतन
2004पद्म विभूषणभारत सरकार

अमृता प्रीतम प्रश्नोत्तर (FAQs):

अमृता प्रीतम का जन्म 01 अगस्त 1919 को पंजाब,मंडी बहाउद्दीन में हुआ था।

अमृता प्रीतम को 1956 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित प्रथम भारतीय महिला के रूप में जाना जाता है।

अमृता प्रीतम की मृत्यु 31 अक्टूबर 2005 को हुई थी।

अमृता प्रीतम के पिता का नाम करतार सिंह हितकरी था।

अमृता प्रीतम की माता का नाम राज कौर था।

  Last update :  Tue 28 Jun 2022
  Post Views :  9980
रविंद्रनाथ टैगोर का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
गोविन्द शंकर कुरुप का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
डॉ. रामविलास शर्मा का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
आशापूर्णा देवी का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
अरुंधती राय का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
प्रतिभा राय का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
मोहम्मद इक़बाल का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
बालकृष्ण शर्मा का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
भारतेन्दु हरिश्चंद्र का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी