मोहम्मद इक़बाल का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी

✅ Published on April 21st, 2021 in प्रसिद्ध व्यक्ति, स्वतंत्रता सेनानी

इस अध्याय के माध्यम से हम जानेंगे मोहम्मद इक़बाल (Muhammad Iqbal) से जुड़े महत्वपूर्ण एवं रोचक तथ्य जैसे उनकी व्यक्तिगत जानकारी, शिक्षा तथा करियर, उपलब्धि तथा सम्मानित पुरस्कार और भी अन्य जानकारियाँ। इस विषय में दिए गए मोहम्मद इक़बाल से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों को एकत्रित किया गया है जिसे पढ़कर आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में मदद मिलेगी। Muhammad Iqbal Biography and Interesting Facts in Hindi.

मोहम्मद इक़बाल के बारे में संक्षिप्त जानकारी

नाममोहम्मद इक़बाल (Muhammad Iqbal)
उपनामअलामा इक़बाल, मुफ्फकिर-ए-पाकिस्तान
जन्म की तारीख09 नवम्बर 1877
जन्म स्थानसियालकोट, पाकिस्तान
निधन तिथि21 अप्रैल 1938
माता व पिता का नामइमाम बीबी / शेख़ नूर मोहम्मद
उपलब्धि1904 - सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा ग़ज़ल के लेखक
पेशा / देशपुरुष / लेखक / पाकिस्तान

मोहम्मद इक़बाल (Muhammad Iqbal)

मोहम्मद इक़बाल अविभाजित भारत के प्रसिद्ध कवि, नेता और दार्शनिक थे। उर्दू और फ़ारसी में इनकी शायरी को आधुनिक काल की सर्वश्रेष्ठ शायरी में गिना जाता है। इक़बाल मसऊदी ने हिंदुस्तान की आज़ादी से पहले "तराना-ए-हिन्द" लिखा था, जिसके प्रारंभिक बोल- "सारे जहाँ से अच्छा, हिन्दोस्तां हमारा" थे |

मोहम्मद इकबाल का जन्म 9 नवंबर 1877 को सियालकोट, पजाब प्रांत में ब्रिटिश भारत में हुआ था, जो अब पाकिस्तान है। इनके पिता का नाम शेख़ नूर मोहम्मद था तथा इक़बाल की माता का नाम इमाम बीबी था। इनके पिता एक दर्जी का कम किया करते थे। इनकी माता परिवार में एक बुद्धिमान उदार महिला थी जो चुपचाप गरीब और जरूरतमंद महिलाओं को वित्तीय मदद देती थी और पड़ोसी के विवादों में मध्यस्थता करती थी।
मोहम्मद इक़बाल की मृत्यु 21 अप्रैल 1938 (आयु 60 वर्ष) लाहौर , पंजाब , ब्रिटिश भारत (वर्तमान पंजाब , पाकिस्तान )में गले की एक रहस्यमय बीमारी हुई थी।
इकबाल चार साल के थे, जब उन्हें कुरान पढ़ने के लिए निर्देश प्राप्त करने के लिए एक मस्जिद में भेजा गया था। उन्होंने अपने शिक्षक सईद मीर हसन, मदरसे के प्रमुख और सियालकोट के स्कॉच मिशन कॉलेज में अरबी के प्रोफेसर, जहां उन्होंने 1893 में मैट्रिक किया था, से अरबी भाषा सीखी। उन्होंने 1895 में कला संकाय के संकाय के साथ एक मध्यवर्ती स्तर प्राप्त किया। उसी वर्ष उन्होंने गवर्नमेंट कॉलेज विश्वविद्यालय में दाखिला लिया, जहाँ उन्होंने 1897 में दर्शनशास्त्र, अंग्रेजी साहित्य और अरबी में अपनी कला स्नातक की उपाधि प्राप्त की और खान बहादुरदीन FS जीता जलालुद्दीन पदक के रूप में उन्होंने अरबी में अच्छा प्रदर्शन किया। [२०] 1899 में, उन्होंने उसी कॉलेज से मास्टर ऑफ़ आर्ट्स की डिग्री प्राप्त की और पंजाब विश्वविद्यालय में प्रथम स्थान प्राप्त किया।
इनकी प्रमुख रचनाएं हैं: असरार-ए-ख़ुदी, रुमुज़-ए-बेख़ुदी और बंग-ए-दारा, जिसमें देशभक्तिपूर्ण तराना-ए-हिन्द (सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा) शामिल है। इनके द्वारा लिखी गईं रचनाएँ मुख्य रूप से फ़ारसी में हैं। इक़बाल ने अंग्रेज़ी भाषा में केवल एक ही पुस्तक लिखी है, जिसका शीर्षक है, ‘सिक्स लेक्चर्स ऑन दि रिकन्सट्रक्शन ऑफ़ रिलीजस थॉट (धार्मिक चिन्तन की नवव्याख्या के सम्बन्ध में छह व्याख्यान)" है। भारत के विभाजन और पाकिस्तान की स्थापना का विचार सबसे पहले इक़बाल ने ही उठाया था। साल 1930 में इक़बाल के नेतृत्व में ही ‘मुस्लिम लीग" ने सबसे पहले भारत के विभाजन की माँग उठाई थी। मोहम्मद इक़बाल को अलामा इक़बाल (विद्वान इक़बाल), मुफ्फकिर-ए-पाकिस्तान (पाकिस्तान का विचारक), शायर-ए-मशरीक़ (पूरब का शायर) और हकीम-उल-उम्मत (उम्मा का विद्वान) के नाम से भी जाना जाता है। इन्हें पाकिस्तान में राष्ट्रकवि माना जाता है।
उन्हें पाकिस्तान का वैचारिक संस्थापक माना जाता है। उनके जन्मदिन को पाकिस्तान में इकबाल दिवस के रूप में मनाया जाता है, और 2018 तक यह सार्वजनिक अवकाश भी था। इक़बाल की काव्य प्रतिभा से प्रभावित होकर ब्रिटिश सरकार ने इन्हें ‘सर" की उपाधि प्रदान की। इकबाल कई सार्वजनिक संस्थानों का नाम है, जिनमें लाहौर में अल्लामा इकबाल कैंपस पंजाब यूनिवर्सिटी, लाहौर में अल्लामा इकबाल मेडिकल कॉलेज, फैसलाबाद में इकबाल स्टेडियम, पाकिस्तान में अल्लामा इकबाल ओपन यूनिवर्सिटी, श्रीनगर में इकबाल मेमोरियल इंस्टीट्यूट, यूनिवर्सिटी में अल्लामा इकबाल लाइब्रेरी शामिल हैं। कश्मीर का लाहौर का अल्लामा इकबाल अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, गवर्नमेंट कॉलेज यूनिवर्सिटी का इकबाल हॉस्टल, लाहौर, मुल्तान में निश्तर मेडिकल कॉलेज में अल्लामा इकबाल हॉल, कराची में गुलशन-ए-इकबाल टाउन, लाहौर में अल्लामा इकबाल टाउन, अल्लामा इकबाल हॉल में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, नई दिल्ली में जामिया मिलिया इस्लामिया में अल्लामा इकबाल छात्रावास और इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, लाहौर में इकबाल हॉल।

📊 This topic has been read 11 times.

अक्सर पूछे जाने वाले महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर:

प्रश्न: सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा ग़ज़ल के लेखक कौन थे?
उत्तर: मोहम्मद इक़बाल
प्रश्न: साल 1930 में किसके नेतृत्व में ‘मुस्लिम लीग’ ने सबसे पहले भारत के विभाजन की माँग उठाई थी?
उत्तर: मोहम्मद इक़बाल
प्रश्न: पाकिस्तान में राष्ट्रकवि किसे माना जाता है?
उत्तर: मोहम्मद इक़बाल
प्रश्न: मोहम्मद इक़बाल का निधन कब हुआ था?
उत्तर: 21 अप्रैल, 1938 ई. को
प्रश्न: असरार-ए-ख़ुदी, रुमुज़-ए-बेख़ुदी और बंग-ए-दारा, ये रचनाएं किस लेखक की है?
उत्तर: मोहम्मद इक़बाल

महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तरी:

प्रश्न: सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा ग़ज़ल के लेखक कौन थे?
Answer option:

      कलानाथ शास्त्री

    ❌ Incorrect

      कुबेर नाथ राय

    ❌ Incorrect

      विष्णु प्रभाकर

    ❌ Incorrect

      मोहम्मद इक़बाल

    ✅ Correct

प्रश्न: साल 1930 में किसके नेतृत्व में ‘मुस्लिम लीग’ ने सबसे पहले भारत के विभाजन की माँग उठाई थी?
Answer option:

      वनिता दामोदरन

    ❌ Incorrect

      मोहम्मद इक़बाल

    ✅ Correct

      पापिया घोष

    ❌ Incorrect

      मुशीरुल हसन

    ❌ Incorrect

प्रश्न: पाकिस्तान में राष्ट्रकवि किसे माना जाता है?
Answer option:

      ज़ाहिद अली खान

    ❌ Incorrect

      चौधरी रहमत अली

    ❌ Incorrect

      मोहम्मद इक़बाल

    ✅ Correct

      मिर्जा गालिव

    ❌ Incorrect

प्रश्न: मोहम्मद इक़बाल का निधन कब हुआ था?
Answer option:

      23 अप्रैल, 1938 ई. को

    ❌ Incorrect

      21 जून, 1938 ई. को

    ❌ Incorrect

      21 अप्रैल, 1920 ई. को

    ❌ Incorrect

      21 अप्रैल, 1938 ई. को

    ✅ Correct

प्रश्न: असरार-ए-ख़ुदी, रुमुज़-ए-बेख़ुदी और बंग-ए-दारा, ये रचनाएं किस लेखक की है?
Answer option:

      आरके नारायणन

    ❌ Incorrect

      अमिताव घोष

    ❌ Incorrect

      अरविंद अडिग

    ❌ Incorrect

      मोहम्मद इक़बाल

    ✅ Correct

« Previous
Next »