इस अध्याय के माध्यम से हम जानेंगे भीमराव अम्बेडकर (Bhimrao Ambedkar) से जुड़े महत्वपूर्ण एवं रोचक तथ्य जैसे उनकी व्यक्तिगत जानकारी, शिक्षा तथा करियर, उपलब्धि तथा सम्मानित पुरस्कार और भी अन्य जानकारियाँ। इस विषय में दिए गए भीमराव अम्बेडकर से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों को एकत्रित किया गया है जिसे पढ़कर आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में मदद मिलेगी। Bhimrao Ambedkar Biography and Interesting Facts in Hindi.

भीमराव अम्बेडकर का संक्षिप्त सामान्य ज्ञान

नामभीमराव अम्बेडकर (Bhimrao Ambedkar)
जन्म की तारीख14 अप्रैल
जन्म स्थानइंदौर जिला, मध्य प्रदेश (भारत)
निधन तिथि06 दिसम्बर
माता व पिता का नामभीमाबाई सकपाल / रामजी मालोजी सकपाल
उपलब्धि1947 - आजाद भारत के पहले कानून मंत्री एवं न्याय मंत्री
पेशा / देशपुरुष / स्वतंत्रता सेनानी / भारत

भीमराव अम्बेडकर - आजाद भारत के पहले कानून मंत्री एवं न्याय मंत्री (1947)

भीमराव आम्बेडकर जी एक बहुजन राजनीतिक नेता और एक बौद्ध पुनरुत्थानवादी भी थे। उन्हें बाबासाहेब के नाम से भी जाना जाता है। आम्बेडकर ने अपना सारा जीवन हिन्दू धर्म की चतुवर्ण प्रणाली और भारतीय समाज में सर्वत्र व्याप्त जाति व्यवस्था के विरुद्ध संघर्ष में बिता दिया था। उन्होंने दलित बौद्ध आंदोलन को प्रेरित किया और दलितों के खिलाफ सामाजिक भेद भाव के विरुद्ध अभियान चलाया। वे स्वतंत्र भारत के प्रथम कानून मंत्री एवं भारतीय संविधान के प्रमुख वास्तुकार थे।

भीमराव अम्बेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को महू, इंदौर जिला मध्य-प्रदेश में हुआ था। इनका पूरा नाम भीमराव रामजी आम्बेडकर था| यह एक गरीब निम्न महार (दलित) जाति में पैदा हुए थे| इनके पिता का नाम रामजी मालोजी सकपाल और भीमाबाई सकपाल था| इनके पिता भारतीय सेना की महू छावनी में नौकरी किया करते थे| इनके माता पिता की 14 संतान थी और यह अपने माता पिता के अंतिम संतान थे|
भीमराव अम्बेडकर का निधन 6 दिसम्बर 1956 (उम्र 65) को नई दिल्ली , भारत में महापरिनिर्वाण नींद में दिल्ली में इनके घर में हुआ था।

1897 में, अंबेडकर का परिवार मुंबई चला गया जहाँ अंबेडकर एल्फिंस्टन हाई स्कूल में नामांकित एकमात्र अछूत बन गए। 1906 में, जब वह लगभग 15 साल का थे, तो उसकी शादी नौ साल की लड़की, रमाबाई से हुई थी। 1907 में, उन्होंने अपनी मैट्रिक की परीक्षा पास की और बाद के वर्ष में उन्होंने एल्फिंस्टन कॉलेज में प्रवेश लिया, जो बॉम्बे विश्वविद्यालय से सम्बद्ध था जब उन्होंने अपनी अंग्रेजी की चौथी कक्षा की परीक्षाएँ उत्तीर्ण कीं, तो उनके समुदाय के लोग जश्न मनाना चाहते थे क्योंकि वे मानते थे कि वह ""महान ऊंचाइयों"" पर पहुँच गए हैं, जो वे कहते हैं कि ""अन्य समुदायों में शिक्षा की स्थिति की तुलना में शायद ही कोई अवसर था""। 1912 तक, उन्होंने बंबई विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र और राजनीति विज्ञान में अपनी डिग्री प्राप्त की, और बड़ौदा राज्य सरकार के साथ रोजगार लेने के लिए तैयार हुए। 1913 में, अंबेडकर 22 वर्ष की आयु में संयुक्त राज्य अमेरिका चले गए। उन्हें सयाजीराव गायकवाड़ तृतीय (बड़ौदा के गायकवाड़) द्वारा स्थापित एक योजना के तहत तीन साल के लिए प्रति माह £ 11.50 (स्टर्लिंग) की बड़ौदा राज्य छात्रवृत्ति से सम्मानित किया गया था। न्यूयॉर्क शहर में कोलंबिया विश्वविद्यालय में स्नातकोत्तर शिक्षा के अवसर प्रदान करने के लिए।

उन्होंने जून 1915 में अर्थशास्त्र में पढ़ाई की और समाजशास्त्र, इतिहास, दर्शनशास्त्र और मानवशास्त्र के अन्य विषयों में एम. ए. की परीक्षा उत्तीर्ण की। अक्टूबर 1916 में, उन्होंने ग्रे इन में बार कोर्स के लिए दाखिला लिया, और उसी समय लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में दाखिला लिया जहां उन्होंने डॉक्टरेट थीसिस पर काम करना शुरू किया। 1921 में मास्टर डिग्री पूरी की। 1923 में, उन्हें एक छात्र के रूप में D.Sc. अर्थशास्त्र में जिसे लंदन विश्वविद्यालय से सम्मानित किया गया था।


भीमराव अम्बेडकर करीब 09 भाषाएँ जानते थे। उन्होनें 21 साल तक लगभग सभी धर्मों की पढ़ाई भी कर ली थी। अंबेडकर के पास कुल 32 डिग्री थी। वो विदेश जाकर अर्थशास्त्र में पीचडी (P.H.D) करने वाले पहले भारतीय थे। अंबेडकर के पास कुल 32 डिग्री थी। वो विदेश जाकर अर्थशास्त्र में पीचडी (P.H.D) करने वाले पहले भारतीय थे। वर्ष 1925 में ऑल-यूरोपियन साइमन कमीशन के साथ काम करने के लिए भीमराव अम्बेडकर को बॉम्बे प्रेसीडेंसी कमेटी में नियुक्त किया गया था। सन् 1956 में बाबासाहेब नागपुर में एक समारोह में अपने दो लाख अछूत साथियों के साथ हिन्दू धर्म त्यागकर बौद्ध बन गए थे। 1916 में उन्होंने अपना दूसरा शोध पूरा किया, नेशनल डिविडेंड ऑफ इंडिया – ए हिस्टोरिक एंड एनालिटिकल स्टडी, एक और एम.ए. के लिए और आखिरकार उन्होंने अपने तीसरे शोध के लिए 1927 में अर्थशास्त्र में पीएचडी प्राप्त की, उसके बाद वे लंदन चले गए थे। 1918 में, वे मुंबई में सिडेनहैम कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स एंड इकोनॉमिक्स में राजनीतिक अर्थव्यवस्था के प्रोफेसर बने। भीमराव अंबेडकर संविधान निर्माण करने वाली समिति के अध्यक्ष थे, इसलिए इनको भारतीय संविधान का निर्माता भी कहा जाता है। बाबासाहेब अम्बेडकर एक प्रखर और प्रख्यात लेखक थे। उन्होंने अपने समकालीन राजनेताओं में सबसे अधिक लिखा था। उन्होंने कुल 32 पुस्तकें (10 अपूर्ण हैं), 10 ज्ञापन, साक्ष्य और कथन, 10 शोध दस्तावेज, लेखों और पुस्तकों की समीक्षा और 10 प्रस्तावना और भविष्यवाणियाँ लिखी थीं। बुद्ध और उनका धम्म अंबेडकर की अंतिम पुस्तक है।

भारत रत्न डॉ. बी. आर. अम्बेडकर ने अपने जीवन के 65 वर्षों में देश को सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक, शैक्षणिक, धार्मिक, ऐतिहासिक, सांस्कृतिक, साहित्यिक, औद्योगिक, संवैधानिक इत्यादि विभिन्न क्षेत्रों में अनगिनत कार्य करके राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान दिया भारत रत्न डॉ. बी. आर. अम्बेडकर ने सामाजिक एवं धार्मिक योगदान में अपने जीवन के 65 वर्षों में देश को सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक, शैक्षणिक, धार्मिक, ऐतिहासिक, सांस्कृतिक, साहित्यिक, औद्योगिक, संवैधानिक इत्यादि विभिन्न क्षेत्रों में अनगिनत कार्य करके राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान दिया। बेजुबान, शोषित और अशिक्षित लोगों को जगाने के लिए वर्ष 1927 से 1956 के दौरान मूक नायक, बहिष्कृत भारत, समता, जनता और प्रबुद्ध भारत नामक पांच साप्ताहिक एवं पाक्षिक पत्र-पत्रिकाओं का संपादन किया। उनके द्वारा आर्थिक, वित्तीय और प्रशासनिक योगदान में भारत में रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया की स्थापना डॉ. अम्बेडकर द्वारा लिखित शोध ग्रंथ रूपये की समस्या-उसका उदभव तथा उपाय और भारतीय चलन व बैकिंग का इतिहास, ग्रन्थों और हिल्टन यंग कमीशन के समक्ष उनकी साक्ष्य के आधार पर 1935 से हुई। उनके दूसरे शोध ग्रंथ ""ब्रिटिश भारत में प्रांतीय वित्त का विकास"" के आधार पर देश में वित्त आयोग की स्थापना हुई। कृषि में सहकारी खेती के द्वारा पैदावार बढाना, सतत विद्युत और जल आपूर्ति करने का उपाय बताया।

औद्योगिक विकास, जलसंचय, सिंचाई, श्रमिक और कृषक की उत्पादकता और आय बढाना, सामूहिक तथा सहकारिता से प्रगत खेती करना, जमीन के राज्य स्वामित्व तथा राष्ट्रीयकरण से सर्वप्रभुत्व सम्पन्न समाजवादी गणराज्य की स्थापना करना। संविधान तथा राष्ट्र निर्माण के योगदान कुछ इस प्रकार हैं, उन्‍होंने समता, समानता, बन्धुता एवं मानवता आधारित भारतीय संविधान को 02 वर्ष 11 महीने और 17 दिन के कठिन परिश्रम से तैयार कर 26 नवंबर 1949 को तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद को सौंप कर देश के समस्त नागरिकों को राष्ट्रीय एकता, अखंडता और व्यक्ति की गरिमा की जीवन पध्दति से भारतीय संस्कृति को अभिभूत किया।


डॉ. भीम राव अंबेडकर जी को मरणोपरांत वर्ष 1990 में भारत के सर्वोच्‍च सम्‍मान ‘भारत रत्‍न‘ से सम्‍मानित किया गया था। 25 दिसंबर 1927 को, उन्होंने मनुस्मृति की प्रतियां जलाने के लिए हजारों अनुयायियों का नेतृत्व किया। इस प्रकार प्रतिवर्ष 25 दिसंबर को अम्बेडकरवादी और दलितों द्वारा मनुस्मृति दहन दिवस (मनुस्मृति दहन दिवस) के रूप में मनाया जाता है। उन्हें सयाजीराव गायकवाड़ III (बड़ौदा के गायकवाड़) द्वारा स्थापित एक योजना के तहत तीन साल के लिए प्रति माह £ 11.50 (स्टर्लिंग) की बड़ौदा राज्य छात्रवृत्ति से सम्मानित किया गया था। इंडियन पोस्ट ने 1966, 1973, 1991, 2001 और 2013 में अपने जन्मदिन को समर्पित डाक टिकट जारी किए और वर्ष 2009, 2015, 2016, 2017 और 2020 में अन्य टिकटों पर उन्हें चित्रित किया।

भीमराव अम्बेडकर प्रश्नोत्तर (FAQs):

भीमराव अम्बेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को इंदौर जिला, मध्य प्रदेश (भारत) में हुआ था।

भीमराव अम्बेडकर को 1947 में आजाद भारत के पहले कानून मंत्री एवं न्याय मंत्री के रूप में जाना जाता है।

भीमराव अम्बेडकर की मृत्यु 06 दिसम्बर 1956 को हुई थी।

भीमराव अम्बेडकर के पिता का नाम रामजी मालोजी सकपाल था।

भीमराव अम्बेडकर की माता का नाम भीमाबाई सकपाल था।

  Last update :  Tue 28 Jun 2022
  Post Views :  9937
विनोबा भावे का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
खान अब्दुल गफ्फार ख़ान का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
मैडम भीकाजी कामा का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
अशफ़ाक़ुल्लाह ख़ाँ का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
शहीद भगत सिंह का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
चंद्रशेखर आजाद का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
खुदीराम बोस का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
महात्मा गांधी का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
मंगल पांडे का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
पुष्पलता दास का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी
शहीद उधम सिंह का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी