विनोबा भावे का जीवन परिचय | Biography of Vinova Bhave in Hindi

विनोबा भावे का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी

इस अध्याय के माध्यम से हम जानेंगे विनोबा भावे (Vinoba Bhave) से जुड़े महत्वपूर्ण एवं रोचक तथ्य जैसे उनकी व्यक्तिगत जानकारी, शिक्षा तथा करियर, उपलब्धि तथा सम्मानित पुरस्कार और भी अन्य जानकारियाँ। इस विषय में दिए गए विनोबा भावे से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों को एकत्रित किया गया है जिसे पढ़कर आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में मदद मिलेगी। Vinoba Bhave Biography and Interesting Facts in Hindi.

विनोबा भावे के बारे में संक्षिप्त जानकारी

नामविनोबा भावे (Vinoba Bhave)
वास्तविक नामविनायक नारहरी भावे
जन्म की तारीख11 सितम्बर 1895
जन्म स्थानगागोदे, पेन, जिला रायगढ़, भारत
निधन तिथि15 नवम्बर 1982
माता व पिता का नामरुक्मिणी देवी / नाराहरी शंभु राव
उपलब्धि1958 - रेमन मैगसेसे पुरस्कार प्राप्त करने वाले प्रथम भारतीय
पेशा / देशपुरुष / वकील / भारत

विनोबा भावे (Vinoba Bhave)

आचार्य विनोबा भावे एक प्रसिद्ध भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के सेनानी तथा गांधीवादी नेता थे। उन्हें भारत का राष्ट्रीय आध्यापक और महात्मा गांधी का आध्यातमिक उत्तराधीकारी समझा जाता है। वे जाने-माने समाज सुधारक एवं ‘भूदान यज्ञ"" नामक आन्दोलन के संस्थापक थे। उन्होने अपने जीवन के आखरी वर्ष पोनार, महाराष्ट्र के आश्रम में गुजारे। उनकी रसायन विज्ञान में रुचि थी|

विनोबा भावे का जन्म

विनोबा भावे का जन्म एक कुलीन ब्राह्मण परिवार में 11 सितम्बर, 1895 को गाहोदे, गुजरात (भारत) में हुआ था। विनोबा भावे का असली नाम विनायक नरहरी भावे था। इनके पिता का नाम‎ ‎नरहरी शम्भू राव और माता का नाम‎ ‎रुक्मिणी देवी था।

विनोबा भावे का निधन

विनोबा भावे का निधन 15 नवंबर 1982 को महाराष्ट्र के वर्धा जिले के पौनार में अपने ब्रह्म विद्या मंदिर आश्रम में हुआ था। इन्होने जैन धर्म में वर्णित ""समाधि मारन/ संथारा को स्वीकार कर लिया था और बाद में इन्होने कुछ दिनों के लिए भोजन और दवा का त्याग कर दिया जिसके कारण इनका निधन हो गया था।

विनोबा भावे की शिक्षा

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में गांधी के भाषण के बारे में अखबारों की एक रिपोर्ट ने भावे का ध्यान आकर्षित किया। 1918 में, इंटरमीडिएट परीक्षा में बैठने के लिए बॉम्बे जाने के रास्ते में, भावे ने अपने स्कूल और कॉलेज के प्रमाणपत्रों को आग में फेंक दिया। भावे ने यह फैसला महात्मा गांधी द्वारा लिखे गए अखबार में लिखने के अंश को पढ़ने के बाद लिया। भावे ने 7 जून 1916 को गांधी से मुलाकात की और बाद में अपनी पढ़ाई छोड़ दी।

विनोबा भावे का करियर

विनोबा भावे ने 7 जून 1916 को गांधी से मुलाकात की और बाद में अपनी पढ़ाई छोड़ दी। भावे ने गांधी के आश्रम में गतिविधियों में गहरी रुचि के साथ भाग लिया, जैसे कि शिक्षण, अध्ययन, कताई और समुदाय के जीवन में सुधार। खादी, ग्रामोद्योग, नई शिक्षा (नई तालीम), स्वच्छता और स्वच्छता से संबंधित गांधी के रचनात्मक कार्यक्रमों में उनकी भागीदारी भी बढ़ती रही। भावे 8 अप्रैल 1921 को गांधी के आश्रम का कार्यभार संभालने के लिए वर्धा गए। 1923 में, उन्होंने महाराष्ट्र धर्म, एक मराठी मासिक निकाला, जिसमें उपनिषदों पर उनके निबंध थे। बाद में, यह मासिक एक साप्ताहिक बन गया और तीन साल तक जारी रहा। 1925 में, उन्हें गांधी द्वारा वैकोम, केरल में हरिजनों के मंदिर में प्रवेश की निगरानी के लिए भेजा गया था।

उन्हें राष्ट्रीय प्रसिद्धि तब मिला जब गांधी जी ने उन्हें 1940 में एक नए अहिंसक अभियान में पहले प्रतिभागी के रूप में चुना। 40 उन्हें ब्रिटिश शासन के खिलाफ गांधी द्वारा पहले व्यक्तिगत सत्याग्रही (एक सामूहिक कार्रवाई के बजाय सत्य के लिए खड़े होने वाला व्यक्ति) चुना गया था। ऐसा कहा जाता है कि गांधी ने भावे की ब्रह्मचर्य का पालन और सम्मान किया, जो उन्होंने अपने किशोरावस्था में किया था, ब्रह्मचर्य सिद्धांत में उनके विश्वास के साथ फिटिंग में। भावे ने भारत छोड़ो आंदोलन में भी भाग लिया था। वर्ष 1923 में विनोबा भावे ने ‘महाराष्ट्र धर्म"" के नाम से एक मराठी मासिक पत्र का प्रकाशन भी शुरू किया था। भावे को 1920 और 1930 के दशक के दौरान कई बार गिरफ्तार किया गया और 1940 के दशक में ब्रिटिश शासन के खिलाफ अहिंसक प्रतिरोध के लिए पांच साल की जेल की सजा दी गई। भावे के लिए जेलें पढ़ने और लिखने के स्थान बन गए थे। उन्होंने जेल में ही ईश्वरसावर्ती और शतप्रजना दर्शन लिखे। उन्होंने चार दक्षिण भारतीय भाषाओं को भी सीखा और वेल्लोर जेल में लोक नगरी की लिपि बनाई 18 अप्रैल 1951 को, भावे ने भूदान आंदोलन, नालगोंडा जिले तेलंगाना के पोचमपल्ली में अपना भूमि दान आंदोलन शुरू किया। उन्होंने भूमि स्वामी भारतीयों से भूमि दान में ले ली और उन्हें गरीबों और भूमिहीनों को खेती करने के लिए दे दिया।

विनोबा भावे के पुरस्कार और सम्मान

1958 में भावे कम्युनिटी लीडरशिप के लिए अंतर्राष्ट्रीय रेमन मैग्सेसे पुरस्कार के पहले प्राप्तकर्ता थे। उन्हें 1983 में मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

भारत के अन्य प्रसिद्ध वकील

व्यक्तिउपलब्धि
वायलेट अल्वा की जीवनीराज्यसभा की प्रथम महिला उपाध्यक्ष
लाल मोहन घोष की जीवनीब्रिटिश संसद हेतु चुनाव लड़ने वाले प्रथम भारतीय पुरुष
अरुण जेटली की जीवनीभारत के 20वें वित्त मंत्री
हरिलाल जेकिसुनदास कनिया की जीवनीसर्वोच्च न्यायालय के प्रथम मुख्य न्यायाधीश
जगदीश सिंह खेहर की जीवनीभारत के पहले सिख मुख्य न्यायाधीश
नीरू चड्ढा की जीवनी‘इंटरनेशनल ट्रिब्यूनल फॉर द लॉ ऑफ द सी" की न्यायाधीश बनने वाली पहली भारतीय
महात्मा गांधी की जीवनीअंग्रेजो भारत छोड़ो आन्दोलन

नीचे दिए गए प्रश्न और उत्तर प्रतियोगी परीक्षाओं को ध्यान में रख कर बनाए गए हैं। यह भाग हमें सुझाव देता है कि सरकारी नौकरी की परीक्षाओं में किस प्रकार के प्रश्न पूछे जा सकते हैं। यह प्रश्नोत्तरी एसएससी (SSC), यूपीएससी (UPSC), रेलवे (Railway), बैंकिंग (Banking) तथा अन्य परीक्षाओं में भी लाभदायक है।

महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर (FAQs):


  • प्रश्न: विनोबा भावे ने ‘महाराष्ट्र धर्म’ मासिक पत्र का प्रकाशन कब किया था?
    उत्तर: 1923
  • प्रश्न: विनोबा भावे को पहले एकल सत्याग्रही के रूप कब चुना गया था?
    उत्तर: 1940
  • प्रश्न: सामुदायिक नेतृत्व के लिए साल 1958 में “रेमन मैग्सेसे पुरस्कार” से किसे सम्मानित किया गया था?
    उत्तर: विनोबा भावे
  • प्रश्न: वर्ष 1983 में भारत सरकार द्वारा भारत रत्न से किसको अलंकृत किया गया था?
    उत्तर: विनोबा भावे
  • प्रश्न: गांधी आश्रम में शामिल होने के लिए विनोबा भावे ने कब अपनी पढाई कब छोड़ी थी?
    उत्तर: 1916

You just read: Biography Vinoba Bhave - FIRST AWARDEE Topic

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *