धन तेरस संक्षिप्त तथ्य

त्यौहार का नामधन तेरस (Dhan Teras)
त्यौहार की तिथि10 नवंबर 2023
त्यौहार का प्रकारधार्मिक
त्यौहार का स्तरक्षेत्रीय
त्यौहार के अनुयायीहिंदू

धन तेरस का इतिहास

धनतेरस, जिसे धनत्रयोदशी या धनवंतरी त्रयोदशी के नाम से भी जाना जाता है, हिन्दू धर्म में महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। यह त्योहार कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को मनाया जाता है। धनतेरस को धन और समृद्धि की प्राप्ति का प्रतीक माना जाता है और इस दिन धन और श्री-लक्ष्मी की कृपा को प्राप्त करने की कामना की जाती है।

धनतेरस का इतिहास हिन्दू परंपराओं और पुराणों से जुड़ा हुआ है। धनतेरस व्यापार और वाणिज्य के क्षेत्र में अत्यधिक महत्व रखता है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन देवी लक्ष्मी भक्तों को धन और समृद्धि का आशीर्वाद देती हैं। लोग अपने घरों को साफ करते हैं और सजाते हैं, उन्हें दीयों (मिट्टी के दीयों) से रोशन करते हैं, और देवी लक्ष्मी और देवताओं के खजांची भगवान कुबेर की विशेष पूजा (पूजा) करते हैं। इस शुभ दिन पर नए बर्तन, गहने और अन्य कीमती सामान खरीदने की प्रथा है।

धन तेरस से संबंधित कहानी

एक समय की बात है, एक राजा था जिसका नाम हिमा था। उनके बेटे के जन्मकुंडली के अनुसार, उसका मृत्यु चौथे दिन को शादी के बाद एक सर्प ने उसे काट देने की भविष्यवाणी की गई थी। इस भयानक भविष्यवाणी से राजा और उसका बेटा बहुत चिंतित थे। तब उसके बेटी की पत्नी एक चतुर और साहसिक महिला थी। वह अपने पति की जान बचाने के लिए एक योजना बनाई। उन्होंने सुना था कि चतुर्दशी (त्रयोदशी) की रात्रि को अगर कोई व्यक्ति नए कपड़े पहने, सोने और चांदी के आभूषण धारण करे, और घर को दियों से प्रज्ज्वलित रखे, तो ऐसी प्रकाश की किरणें सर्प जैसे शैतानी दुष्टों को दूर रख सकती हैं। उनकी योजना के अनुसार, रात्रि को चतुर्दशी के दिन सभी ने अपने घरों को सजाया, दीपकों से जलाया, और नए कपड़े पहने। वे घर के प्रवेशद्वार पर सोने और चांदी के सिक्के रखे। पूरे शहर में दीपों की रौशनी से यह लगा जैसे सब कुछ चमक रहा हो और खुशी की आवाज़ आसमान में गूँज रही हो।

जब रात के समय आया, मृत्यु देवता यमराज ने सर्प के रूप में राजा के पुत्र के कमरे की ओर बढ़ाई। लेकिन उसे दीपकों की चमक और सोने-चांदी की ज्योति में खुदाई और दिलचस्पी देखकर वह अचंभित हो गया। उसका ध्यान भटक गया और उसने राजा के पुत्र को नुकसान पहुंचाने के बजाय वहां रखी हुई आभूषणों में उलझ गया। वह रात भर उसी तंगली में उलझा रह गया, और प्रियंका के पति की जान बच गई। जब सुबह हुई, खबर फैली और पूरे राज्य में पुजा हुई। इस दिन का उत्सव धनतेरस के नाम से मनाया जाने लगा। इस प्रकार, धनतेरस की कहानी न सिर्फ धन और समृद्धि की महत्वता को दर्शाती है, बल्कि यह भी बताती है कि शक्ति, चमक, और ज्योति का प्रभाव दुष्टताओं को दूर रखने में कितना महत्वपूर्ण होता है। यह उत्सव हमें स्वयं के भीतरी प्रकाश को स्वीकार करने और अपने आस-पास प्रकाश और उजाले को फैलाने की प्रेरणा देता है।

धन तेरस का महत्व

धनतेरस, हिन्दू धर्म में एक प्रमुख त्योहार है जिसे भारतीय समाज में महत्वपूर्ण माना जाता है। इस दिन का महत्व धन और समृद्धि की प्राप्ति के लिए जाना जाता है। धनतेरस को धनवंतरी त्रयोदशी भी कहा जाता है, जो स्वास्थ्य और रोग निरोधक कोण (एंगल) देवता धनवंतरी को समर्पित होता है। धनतेरस का महत्व धन, समृद्धि, और सुख-शांति की प्राप्ति को प्रकट करने के लिए होता है। यह दिन मां लक्ष्मी की कृपा को प्राप्त करने का अद्वितीय अवसर प्रदान करता है। लोग इस दिन पूजा-अर्चना करके लक्ष्मी माता की कृपा और आशीर्वाद की कामना करते हैं। इसके अलावा, धनतेरस प्रतिवर्ष धनवंतरी त्रयोदशी व्रत का आयोजन करने का भी अवसर होता है, जिससे स्वास्थ्य और लंबी आयु के लिए आशीर्वाद प्राप्त होता है। धनतेरस का महत्व यह भी बताता है कि यह समाज में धन और समृद्धि के लिए आदर्श और महत्वपूर्ण दिन है। इस दिन धनराशि की खरीदारी करने का और अच्छी खासी मात्रा में सोने-चांदी की खरीद करने का परंपरागत रूप होता है। धनतेरस मनाने के द्वारा लोग अपने आप को धन और समृद्धि से संपन्न करने की कामना करते हैं और अपने आस-पास के प्रियजनों को खुशियां बांटने का संकेत देते हैं।

धन तेरस कैसे मनाते हैं

धनतेरस हिन्दू समुदाय में एक प्रमुख त्योहार है और इसे पूरे उत्साह के साथ मनाया जाता है। यह पांच दिन चलने वाले दिवाली के पहले दिन का भी हिस्सा है। धनतेरस के दिन घरों को सजाने का विशेष महत्व होता है। घरों को सजाने के लिए चांदी और सोने के आभूषणों को धर्मिक आदर्शों के साथ सजाया जाता है। इस दिन, मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है जिसमें धनतेरस व्रत का आयोजन किया जाता है। मां लक्ष्मी की मूर्ति को सजाया जाता है और उसे विशेष पूजा आरती और मंत्रों के साथ प्रसन्न किया जाता है। लोग धनतेरस पर चावल, मिश्री, और घी के दिए को प्रज्वलित करते हैं और पूजा का विधान पूरा करते हैं। धनतेरस के दिन व्यापारी लोग अपने दुकानों और व्यापार को साफ-सुथरा करते हैं और धनतेरस का मार्केटिंग करते हैं। यह दिन आपसी धन के बारे में भी विचार करने का एक अच्छा मौका होता है। धनतेरस के दिन लोग अपने प्रियजनों और मित्रों को आपसी मेल-जोल के साथ शुभकामनाएं भेजते हैं और धनतेरस की खुशियों का आनंद उठाते हैं। इस दिन धन और समृद्धि की प्राप्ति की कामना करते हैं और एक दूसरे को धनतेरस की शुभकामनाएं देकर खुशहाली की कामना करते हैं।

धन तेरस की परंपराएं और रीति-रिवाज

"धनतेरस" शब्द संस्कृत के दो शब्दों से बना है: "धन," जिसका अर्थ है धन, और "तेरस", जिसका अर्थ है तेरहवां दिन। यह दिन धन और समृद्धि की हिंदू देवी, देवी लक्ष्मी की पूजा के लिए समर्पित है। ऐसा माना जाता है कि धनतेरस पर, देवी लक्ष्मी घर आती हैं और उन्हें समृद्धि और प्रचुरता का आशीर्वाद देती हैं।

सफाई और सजावट: धनतेरस की तैयारी में, लोग देवी लक्ष्मी के स्वागत के लिए अपने घरों और कार्यस्थलों की सफाई करते हैं। शुभ वातावरण बनाने के लिए वे अपने घरों को रंगोली (रंगीन पाउडर से बने जटिल फर्श के डिजाइन), फूलों और रोशनी से सजाते हैं।

कीमती धातु और बर्तन खरीदना: धनतेरस को सोना, चांदी और अन्य कीमती धातु खरीदने के लिए एक शुभ दिन माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि धनतेरस पर इन वस्तुओं को खरीदने से सौभाग्य और समृद्धि आती है। बहुत से लोग इस दिन नए बर्तन भी खरीदते हैं, जो धन की देवी की पूजा का प्रतीक है।

तेल के दीये जलाना: पारंपरिक तेल के दीये या दीये जलाना धनतेरस समारोह का एक अनिवार्य हिस्सा है। बुरी आत्माओं को भगाने और सकारात्मक ऊर्जा और समृद्धि को आमंत्रित करने के लिए ये दीपक घरों और कार्यस्थलों में जलाए जाते हैं।

उपहारों का आदान-प्रदान: धनतेरस परिवार के सदस्यों और दोस्तों के बीच उपहारों के आदान-प्रदान का समय है। लोग अक्सर शुभकामनाओं और प्रेम के प्रतीक के रूप में मिठाई, सूखे मेवे और अन्य उपहारों का आदान-प्रदान करते हैं।

सोना और चांदी खरीदना: धनतेरस को सोना, चांदी या अन्य कीमती सामान खरीदने के लिए एक शुभ दिन माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन इन वस्तुओं को खरीदने से समृद्धि और सौभाग्य की प्राप्ति होती है। इन खरीदारी को करने के लिए लोग गहनों की दुकानों और बाजारों में जाते हैं।

महत्वपूर्ण त्योहारों की सूची:

तिथि त्योहार का नाम
13 जनवरी 2024 लोहड़ी
14 जनवरी 2024 मकर संक्रांति
9 अप्रैल 2024 - 17 अप्रैल 2024चैत्र नवरात्रि
11 अप्रैल 2024 गणगौर
17 अप्रैल 2024 राम नवमी
17 सितंबर 2023 भगवान विश्वकर्मा जयंती
24 अक्टूबर 2023विजयादशमी
9 अप्रैल 2024गुडी पडवा
30 अगस्त 2023रक्षाबंधन
15 अक्टूबर 2023 - 24 अक्टूबर 2023नवरात्रि
20 अक्टूबर 2023 - 24 अक्टूबर 2023दुर्गा पूजा
10 नवंबर 2023धन तेरस
21 अगस्त 2023नाग पंचमी
23 अप्रैल 2024हनुमान जयंती

धन तेरस प्रश्नोत्तर (FAQs):

इस वर्ष धन तेरस का त्यौहार 10 नवंबर 2023 को है।

धन तेरस एक धार्मिक त्यौहार है, जिसे प्रत्येक वर्ष बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

धन तेरस का त्यौहार प्रत्येक वर्ष हिंदू धर्म / समुदाय के लोगों द्वारा मनाया जाता है।

धन तेरस एक क्षेत्रीय स्तर का त्यौहार है, जिसे मुख्यतः हिंदू धर्म / समुदाय के लोगों द्वारा धूम धाम से मनाया जाता है।

  Last update :  Thu 8 Jun 2023
  Post Views :  1454
विश्व संस्कृत दिवस (श्रावणी पूर्णिमा) का अर्थ, इतिहास एवं महत्व
क्रिसमस डे (25 दिसम्बर) का इतिहास, महत्व, थीम और अवलोकन
होली का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
मकर संक्रांति का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
पोंगल का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
वसंत पंचमी का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
महा शिवरात्रि का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
चैत्र नवरात्रि का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
गणगौर का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
राम नवमी का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
महर्षि वाल्मीकि जयंत्री का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी