भगवान विश्वकर्मा जयंती संक्षिप्त तथ्य

त्यौहार का नामभगवान विश्वकर्मा जयंती (Lord Vishwakarma Jayanti)
त्यौहार की तिथि17 सितंबर 2023
त्यौहार का प्रकारधार्मिक
त्यौहार का स्तरक्षेत्रीय
त्यौहार के अनुयायीहिंदू

भगवान विश्वकर्मा जयंती का इतिहास

भगवान विश्वकर्मा को संसार का रचयिता और देवताओं का शिल्पी माना गया है। विश्वकर्मा जयंती हिंदू कैलेंडर के 'कन्या संक्रांति' पर पड़ती है। विश्वकर्मा जयंती मुख्य रूप से कर्नाटक, असम, पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, ओडिशा और त्रिपुरा आदि राज्यों में मनाई जाती है। त्योहार मुख्य रूप से इंजीनियरिंग और स्थापत्य समुदाय द्वारा बल्कि कारीगरों, शिल्पकारों, यांत्रिकी द्वारा भी पूजा के दिन के रूप में मनाया जाता है।

विश्वकर्मा पूजा हिंदू धर्म में मनाया जाने वाला एक प्रमुख त्योहार है। विश्वकर्मा पूजा का इतिहास बहुत पुराना है और इसे लेकर तरह-तरह की कहानियां प्रचलित हैं। इस त्योहार का महत्वपूर्ण पहलू यह है कि यह शिल्पकारों, कारीगरों और उद्योगपतियों के लिए अपनी यात्रा और कार्यशालाओं को पूरा करने के लिए देवी की कृपा और आशीर्वाद प्राप्त करने का एक महत्वपूर्ण अवसर है।

भगवान विश्वकर्मा जयंती से संबंधित कहानी

विश्वकर्मा और त्रिशंकु: इस कथा में बताया जाता है कि एक बार विश्वकर्मा और उनके पुत्र त्रिशंकु भगवान शिव के द्वारा नियुक्ति के लिए प्रतियोगिता में भाग लेते हैं। प्रतियोगिता में विश्वकर्मा विशाल औजार बनाते हैं, जबकि त्रिशंकु एक साधारण लकड़ी के टुकड़े से शिवलिंग बनाते हैं। शिव त्रिशंकु को पराजित करने के लिए प्रसन्न होते हैं, क्योंकि उनके अनुसार सरलता और सादगी में सम्पूर्णता होती है।

विश्वकर्मा और असुर दानव: विश्वकर्मा के द्वारा निर्मित स्वर्ग की उच्चतम स्तर पर विराजमान नगरी त्रिपुर संग्राम करती है। असुर दानव राजा महिषासुर, शुक्राचार्य और तारकासुर द्वारा नियंत्रित यह नगरी देवताओं के लिए खतरे की घटना बन जाती है। भगवान विष्णु की सहायता से विश्वकर्मा असुरों को मारते हैं और शांति स्थापित करते हैं।

विश्वकर्मा और रथकार: एक बार विश्वकर्मा और उनके पुत्र रथकार रथों के निर्माण में लगे होते हैं। एक दिन उन्हें पता चलता है कि उनके रथों को चलाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण घोड़े उनकी रथों को छूने के लिए पैदा नहीं हुए हैं। विश्वकर्मा और रथकार भगवान गणेश की आराधना करते हैं और उनसे बिना घोड़ों के रथों को चलाने के उपाय पूछते हैं। गणेश उन्हें एक हाथी को नियुक्ति करते हैं जो रथ को आसानी से चला सकता है।

भगवान विश्वकर्मा जयंती का महत्व

विश्वकर्मा पूजा का महत्व हिन्दू समाज में बहुत उच्च मान्यता रखता है। यह पूजा शिल्पकारों, कारीगरों, उद्योगपतियों और व्यापारियों के लिए एक महत्वपूर्ण अवसर है। इस पूजा के महत्व को निम्नलिखित कारणों से समझा जाता है:

धार्मिक मान्यता: विश्वकर्मा पूजा भगवान विश्वकर्मा को समर्पित होती है, जिन्हें जगत के निर्माणकर्ता और सर्वोच्च शिल्पकार माना जाता है। इस पूजा के माध्यम से लोग उन्हें प्रसन्न करने और आशीर्वाद प्राप्त करने का प्रयास करते हैं।

उद्योगिक मान्यता: विश्वकर्मा पूजा उद्योग, उद्यम, उत्पादन और कारीगरी समृद्धि की प्रतीक है। इस दिन उद्योगपतियों और व्यापारियों ने अपने कारोबार को आशीर्वाद और समृद्धि के लिए विश्वकर्मा की पूजा करते हैं।

कर्मशीलता की प्रशंसा: विश्वकर्मा पूजा का महत्वपूर्ण पहलू यह है कि यह कर्मशीलता, मेहनत और योगदान की प्रशंसा करती है। इस दिन शिल्पकार, कारीगर और उद्योगपति अपने कार्यों को सम्मानित करते हैं और भगवान विश्वकर्मा की कृपा और आशीर्वाद के लिए प्रार्थना करते हैं।

सामाजिक एकता: विश्वकर्मा पूजा में लोग सामाजिक रूप से एकता का संकेत करते हैं। इस दिन लोग साथ मिलकर पूजा, प्रदर्शन और उत्सवों को आयोजित करते हैं, जो सामाजिक बंधनों को मजबूत करता है और समाज के सदस्यों के बीच सौहार्द बढ़ाता है।

भगवान विश्वकर्मा जयंती कैसे मनाते हैं

विश्वकर्मा जयंती वाले दिन कार्यशालाओं, कारखानों, कार्यालयों और अन्य कार्यस्थलों को अच्छी तरह से साफ और सजाया जाता है। भगवान विश्वकर्मा की मूर्तियों या चित्रों को फूलों और मालाओं से सजाया और सजाया जाता है। पूजा और प्रसाद भगवान विश्वकर्मा के सम्मान में एक विशेष पूजा की जाती है। भक्त देवता को फूल, फल, मिठाई और अन्य पारंपरिक प्रसाद चढ़ाते हैं। पूजा एक पुजारी या एक कुशल कारीगर द्वारा आयोजित की जाती है जो अनुष्ठानों का पालन करता है और वैदिक मंत्रों का जाप करता है। चूंकि विश्वकर्मा जयंती शिल्प कौशल और औद्योगिक कार्य से जुड़ी है, इस दिन उपकरण, मशीनरी और उपकरणों की भी पूजा की जाती है। उन्हें साफ किया जाता है, फूलों से सजाया जाता है और उनके उचित कामकाज और आशीर्वाद के लिए प्रार्थना की जाती है। एक ही व्यापार या पेशे से संबंधित लोग अक्सर विश्वकर्मा जयंती मनाने के लिए एक साथ आते हैं। सामुदायिक सभाएँ, सांस्कृतिक कार्यक्रम और जुलूस आयोजित किए जाते हैं जहाँ लोग अपने कौशल, शिल्प कौशल और औद्योगिक उत्पादों का प्रदर्शन करते हैं।

ये आयोजन समुदाय के सदस्यों के बीच एकता और भाईचारे की भावना को बढ़ावा देते हैं। पूजा के बाद भक्तों में प्रसाद का वितरण किया जाता है। यह शुभ माना जाता है और आशीर्वाद और समृद्धि लाने वाला माना जाता है। लोग विश्वकर्मा जयंती को दावतों का आयोजन करके और परिवार, दोस्तों और सहयोगियों के साथ भोजन साझा करके मनाते हैं। उत्सव के एक भाग के रूप में विशेष व्यंजन और मिठाइयाँ तैयार की जाती हैं। यह दिन श्रमिकों और शिल्पकारों के लिए उनके पास मौजूद कौशल और प्रतिभा के लिए आभार व्यक्त करने का अवसर भी है। वे अपने कार्यक्षेत्र में सफलता, समृद्धि और सुरक्षा के लिए भगवान विश्वकर्मा से आशीर्वाद मांगते हैं।

भगवान विश्वकर्मा जयंती की परंपराएं और रीति-रिवाज

पूजा-अर्चना: इस दिन लोग अपने घरों और कार्यस्थलों में विश्वकर्मा देवता की पूजा-अर्चना करते हैं। पुरानी मशीनरी, उपकरण, यंत्रों आदि को सजाकर उनकी पूजा की जाती है। पूजा के समय विश्वकर्मा देवता के व्रत कथा और उनके गुणों का उच्चारण किया जाता है।

विश्वकर्मा मंदिर दर्शन: लोग विश्वकर्मा जयंती पर विश्वकर्मा मंदिरों में जाकर देवता की पूजा करते हैं। कुछ स्थानों पर विश्वकर्मा मंदिरों में विशेष पूजा-अर्चना आयोजित की जाती है और भक्तों को प्रसाद भी बांटा जाता है।

विश्वकर्मा पूजा मेला: कुछ स्थानों पर विश्वकर्मा जयंती पर मेला आयोजित किया जाता है। इस मेले में विश्वकर्मा देवता की मूर्ति को सजाकर पूजा की जाती है और विभिन्न प्रकार के व्यापारिक गतिविधियां और मनोरंजन कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

शिल्पकारों का सम्मान: विश्वकर्मा जयंती पर शिल्पकारों को सम्मानित किया जाता है। इस दिन लोग अपने आदर्श शिल्पकारों को पुरस्कार देकर उनका सम्मान करते हैं।

समुद्री यात्रा: कुछ स्थानों पर विश्वकर्मा जयंती के दिन नदी या समुद्र की यात्रा की जाती है। लोग नावों और जहाजों को सजाकर उन्हें पानी में ले जाते हैं और विश्वकर्मा देवता की पूजा करते हैं।

भगवान विश्वकर्मा जयंती के बारे में अन्य जानकारी

विश्वकर्मा जयंती के रूप में व्याप्त बदलाव आए हैं, यह धार्मिक और सांस्कृतिक प्रथाओं के साथ-साथ समाज की परिवर्तितताओं के प्रतिस्पर्धी माहौल के कारण है।

तकनीकी प्रगति के साथ बदलाव: विश्वकर्मा जयंती में तकनीकी प्रगति के साथ संबंधित बदलाव देखने को मिलते हैं। आधुनिकता की दृष्टि से, विभिन्न उद्योगों और उद्यानों में कार्यरत लोग अपनी वर्कशॉप्स और कंपनियों के अंदर विश्वकर्मा जयंती मनाते हैं। यह तकनीकी प्रगति के प्रतीक के रूप में उभर रहा है जो मानव निर्मित यंत्र, मशीनरी और तकनीकी उपकरणों की महत्वाकांक्षा को प्रकट करता है।

सामाजिक संगठन: विश्वकर्मा जयंती के रूप में सामाजिक संगठन और कार्यक्रमों का आयोजन बढ़ रहा है। इसके अंतर्गत, विभिन्न शिल्प कार्यशालाओं, व्यापारिक संघों और उद्योगों के संगठन द्वारा सामाजिक, कला और शिल्प कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। ये कार्यक्रम विभिन्न सामाजिक और पेशेवर गतिविधियों के माध्यम से विश्वकर्मा जयंती का आयोजन करते हैं।

वैज्ञानिक और आधुनिक प्रतिष्ठान: विश्वकर्मा जयंती के रूप में वैज्ञानिक और आधुनिक प्रतिष्ठानों की भूमिका बढ़ रही है। विभिन्न शोध संस्थानों, प्रौद्योगिकी संस्थानों और विज्ञान संस्थानों में विश्वकर्मा जयंती का आयोजन किया जाता है, जहां वैज्ञानिक अनुसंधान, प्रदर्शनी, और विश्वकर्मा देवता के यंत्रों और उपकरणों की प्रदर्शनी होती है।

विश्वकर्मा समाज: विश्वकर्मा समाज ने अपनी प्रथाओं को मॉडर्न और अद्यात्मिक दृष्टिकोण के साथ अपडेट किया है। यह समाज शिल्प, व्यापार, विज्ञान, और तकनीकी क्षेत्रों में अग्रसर है और आपसी सहयोग और समूचे समाज की उन्नति के लिए कार्य करता है। इसके अलावा, आध्यात्मिक और सामाजिक गतिविधियों के माध्यम से विश्वकर्मा जयंती का मनाना भी होता है।

महत्वपूर्ण त्योहारों की सूची:

तिथि त्योहार का नाम
13 जनवरी 2024 लोहड़ी
14 जनवरी 2024 मकर संक्रांति
9 अप्रैल 2024 - 17 अप्रैल 2024चैत्र नवरात्रि
11 अप्रैल 2024 गणगौर
17 अप्रैल 2024 राम नवमी
17 सितंबर 2023 भगवान विश्वकर्मा जयंती
24 अक्टूबर 2023विजयादशमी
9 अप्रैल 2024गुडी पडवा
30 अगस्त 2023रक्षाबंधन
15 अक्टूबर 2023 - 24 अक्टूबर 2023नवरात्रि
20 अक्टूबर 2023 - 24 अक्टूबर 2023दुर्गा पूजा
10 नवंबर 2023धन तेरस
21 अगस्त 2023नाग पंचमी
23 अप्रैल 2024हनुमान जयंती

भगवान विश्वकर्मा जयंती प्रश्नोत्तर (FAQs):

इस वर्ष भगवान विश्वकर्मा जयंती का त्यौहार 17 सितंबर 2023 को है।

भगवान विश्वकर्मा जयंती एक धार्मिक त्यौहार है, जिसे प्रत्येक वर्ष बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

भगवान विश्वकर्मा जयंती का त्यौहार प्रत्येक वर्ष हिंदू धर्म / समुदाय के लोगों द्वारा मनाया जाता है।

भगवान विश्वकर्मा जयंती एक क्षेत्रीय स्तर का त्यौहार है, जिसे मुख्यतः हिंदू धर्म / समुदाय के लोगों द्वारा धूम धाम से मनाया जाता है।

  Last update :  Thu 8 Jun 2023
  Post Views :  2560
विश्व संस्कृत दिवस (श्रावणी पूर्णिमा) का अर्थ, इतिहास एवं महत्व
क्रिसमस डे (25 दिसम्बर) का इतिहास, महत्व, थीम और अवलोकन
होली का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
मकर संक्रांति का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
पोंगल का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
वसंत पंचमी का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
महा शिवरात्रि का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
चैत्र नवरात्रि का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
गणगौर का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
राम नवमी का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी
महर्षि वाल्मीकि जयंत्री का इतिहास, अर्थ, महत्व एवं महत्वपूर्ण जानकारी