बाबू कुंवर सिंह का जीवन परिचय एवं उनसे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी

इस अध्याय के माध्यम से हम जानेंगे बाबू कुंवर सिंह (Babu Kunwar Singh) से जुड़े महत्वपूर्ण एवं रोचक तथ्य जैसे उनकी व्यक्तिगत जानकारी, शिक्षा तथा करियर, उपलब्धि तथा सम्मानित पुरस्कार और भी अन्य जानकारियाँ। इस विषय में दिए गए बाबू कुंवर सिंह से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों को एकत्रित किया गया है जिसे पढ़कर आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में मदद मिलेगी। Babu Kunwar Singh Biography and Interesting Facts in Hindi.

बाबू कुंवर सिंह का संक्षिप्त सामान्य ज्ञान

नामबाबू कुंवर सिंह (Babu Kunwar Singh)
वास्तविक नामबाबू वीर कुंवर सिंह
जन्म की तारीख 1777
जन्म स्थानजगदीशपुर
निधन तिथि23 अप्रैल 1858
माता व पिता का नामरानी पंचरतन कुंवारी देवी सिंह / राजा शहाजादा सिंह
उपलब्धि1858 - जगदीशपुर की रियासत के राजा
पेशा / देशपुरुष / सैन्य कमांडर / भारत

बाबू कुंवर सिंह (Babu Kunwar Singh)

बाबू कुंवर सिंह को भारत के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के महानायक के रूप में जाना जाता है जो 80 वर्ष की उम्र में भी लड़ने तथा विजय हासिल करने का माद्दा रखते थे। अन्याय विरोधी व स्वतंत्रता प्रेमी बाबू कुंवर सिंह कुशल सेना नायक थे। अपने ढलते उम्र और बिगड़ते सेहत के बावजूद भी उन्होंने कभी भी अंग्रेजों के सामने घुटने नहीं टेके बल्कि उनका डटकर सामना किया था।

वीर कुंवर सिंह का जन्म 13 नवंबर 1777 को बिहार के भोजपुर जिले के जगदीशपुर गांव में हुआ था। इनका पूरा नाम बाबू वीर कुंवर सिंह था। इनके पिता का नाम बाबू साहबजादा सिंह और माता का नाम पंचरत्न कुंवर था। इनके पिता प्रसिद्ध शासक भोज के वंशजों में से थे। इनके माता पिता की चार संतान थी। उनके छोटे भाई अमर सिंह, दयालु सिंह और राजपति सिंह थे।
बाबू कुंवर सिंह की मृत्यु 26 अप्रैल 1858 (80 वर्ष की आयु) को जगदीशपुर, भोजपुर, बिहार में हुई।
बाबू कुंवर सिंह ने बिहार में 1857 के भारतीय विद्रोह का नेतृत्व किया। जब वह हथियार उठाने के लिए बुलाए गए तब वह लगभग अस्सी और असफल स्वास्थ्य में थे। उनके साथ उनके भाई, बाबू अमर सिंह और उनके कमांडर-इन-चीफ, हरे कृष्ण सिंह, थे। कुछ लोगों का तर्क है कि कुंवर सिंह की प्रारंभिक सैन्य सफलता के पीछे असली कारण था। उन्होंने लगभग एक साल तक एक अच्छी लड़ाई लड़ी और ब्रिटिश सेना को परेशान किया और अंत तक अजेय रहे। वे छापामार युद्ध की कला के विशेषज्ञ थे। उनकी रणनीति ने ब्रिटिशों को हैरान कर दिया। 27 अप्रैल 1857 को दानापुर के सिपाहियों, भोजपुरी जवानों और अन्य साथियों के साथ आरा नगर पर बाबू वीर कुंवर सिंह ने कब्जा कर लिया था। 23 अप्रैल, 1858 को जगदीशपुर के लोगों ने उनको सिंहासन पर बैठाया और राजा घोषित किया था। ब्रिटिश इतिहासकार होम्स ने उनके बारे में लिखा है, ‘उस बूढ़े राजपूत ने ब्रिटिश सत्ता के विरुद्ध अद्भुत वीरता और आन-बान के साथ लड़ाई लड़ी। वर्ष 1858 में ही, 22 और 23 अप्रैल को, घायल होने पर उन्होंने ब्रिटिश सेना के खिलाफ बहादुरी से लड़ाई लड़ी और अपनी सेना की मदद से ब्रिटिश सेना को खदेड़ दिया, जगदीशपुर किले से यूनियन जैक को उतारा और अपना झंडा फहराया।
भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में उनके योगदान का सम्मान करने के लिए, भारतीय गणराज्य ने 23 अप्रैल 1966 को एक स्मारक डाक टिकट जारी किया। बिहार सरकार ने 1992 में वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय, अर्रा की स्थापना की। 2017 में, वीर कुंवर सिंह सेतु, जिसे अर्राह-छपरा पुल भी कहा जाता है, का उद्घाटन उत्तर और दक्षिण बिहार को जोड़ने के लिए किया गया था। 2018 में, कुंवर सिंह की मृत्यु की 160 वीं वर्षगांठ मनाने के लिए, बिहार सरकार ने हार्डिंग पार्क में उनकी एक प्रतिमा को स्थानांतरित किया। पार्क को आधिकारिक तौर पर "वीर कुंवर सिंह आजादी पार्क" के रूप में भी नामित किया गया था।
  Last update :  2022-06-28 11:44:49
  Post Views :  2055

🙏 If you liked it, share with friends.