मालदीव देश का इतिहास, भूगोल, अर्थव्यवस्था तथा महत्वपूर्ण घटनाएं

विश्व के भूगोल में मालदीव देश का एक अलग ही स्थान है| इस देश में कई ऐसी बातें है जो इस देश को अन्य देशों से अलग करती है जैसे की भाषा, रहन सहन, वेश-भूषा, संस्कृति, धर्म, व्यवसाय| आइये जानते है मालदीव(Maldives) देश से जुड़े कुछ ऐसे अनोखे तथ्य तथा इतिहास से जुड़ी महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में, जिन्हें जानकर आपका ज्ञान बढ़ेगा|

मालदीव देश की संक्षिप्त जानकारी

देश का नाममालदीव
देश की राजधानीमाले
देश की मुद्रामालदीवियन रूफिया
महाद्वीप का नामAsia

Read Also: देश का नाम, उनकी राजधानी तथा मुद्रा की सूची

मालदीव देश का इतिहास

मालदीव के मौखिक, भाषाई और सांस्कृतिक परंपरा और रिवाज का तुलनात्मक अध्ययन इस बात की पुष्टि करता हैं कि पहले बसने वाले लोग द्रविड़ थे, यह संगम अवधि (BCE 300-300 CE), में केरल से यहाँ आए थे। यह शायद दक्षिण पश्चिम तट के मछुआरे थे जो अब भारतीय उपमहाद्वीप का दक्षिण और श्रीलंका का पश्चिमी तट है। ऐसा एक समुदाय गिरावारू लोगों का है जो प्राचीन तमिलों के वंशज हैं। पूंजी की स्थापना और माले के आलीशान शासन के बारे में प्राचीन कथाओं और स्थानीय लोक कथाओं में वर्णन किया है। उन्हें द्वीप पर बसने वाला सबसे पहला समुदाय माना जाता है। मालदीव को पूरी राजनीतिक स्वतंत्रता देने का समझौता महामहिम सुल्तान की ओर से इब्राहीम नासिर रंनाबंदेय्री किलेगेफां, प्रधान मंत्री और महारानी साहिबा की ओर से सर माइकल वॉकर ब्रिटिश एलची मालदीव द्वीप के अभिनिहित ने हस्ताक्षरित किया। यह समारोह 26 जुलाई 1965 को कोलंबो में ब्रिटिश उच्चायुक्त के निवास पर आयोजित किया गया था।

मालदीव देश का भूगोल

मालदीव में लगभग 1,190 मुँगिया द्वीप शामिल हैं, जो उतर-दक्षिण दिशा के बराबर 26 प्रवाल द्वीपों की दोहरी चेन में संगठित हैं। मालदीव के प्रवाल द्वीप लगभग 90,000 वर्ग किलोमीटर में फेला क्षेत्र सम्मिलित करते हैं, जो इसे दुनिया के सबसे पृथक देशों में से एक बनाता है। इसमें 1,192 टापू हैं, जिसमें से 200 पर बस्ती है। मालदीव गणराज्य की राजधानी और सबसे बड़ा शहर है माले, जिसकी आबादी 103,693 (2006) है। यह काफू प्रवाल द्वीप में, उत्तर माँले प्रवाल द्वीप के दक्षिणी किनारे पर स्थित है। यह मालदीव का एक प्रशासकीय विभाग भी है। पारंपरिक रूप से यह राजा का द्वीप था, जहां से प्राचीन मालदीव राजकीय राजवंश शासन करते थे और जहाँ उनका महल स्थित था।

मालदीव देश की अर्थव्यवस्था

प्राचीन काल में मालदीव कौड़ी खोल, नारियल-जटा की रस्सी, सूखी टूना मछली (मालदीव मछली), एम्बर्ग्रिज़ (मावाहरू) और कोको डे मेर(तवाक्काशी) के लिए प्रसिद्ध था। स्थानीय और विदेशी व्यापारिक जहाज इन उत्पादों को श्रीलंका से भर के हिंद महासागर के अन्य बंदरगाहों पर पहुँचाया करते थे। मालदीव सरकार ने 1989 में एक आर्थिक सुधार कार्यक्रम शुरू किया, इसका प्रारंभ आयात कोटा उठा के और निजी क्षेत्र के लिए कुछ निर्यात खोलने से किया गया। बाद में, इसके नियम उदार कर दिए गए और अधिक विदेशी निवेश की अनुमति दे दी गई।

मालदीव देश की भाषा

आधिकारिक और आम भाषा ढिव्ही है, जो एक इंडो-आर्यन भाषा है जो श्रीलंका की सिंहली भाषा से संबंधित है। धिवेही को लिखने के लिए प्रयोग की जाने वाली पहली ज्ञात लिपि ईविल अकरू लिपि है, जो राजाओं की ऐतिहासिक रिकॉर्डिंग (राधावली) में मिलती है। बाद में dhives akuru नामक एक स्क्रिप्ट का उपयोग लंबे समय तक किया गया था। वर्तमान लिपि को थाना कहा जाता है और इसे दाएं से बाएं लिखा जाता है। कहा जाता है कि थाना मोहम्मद ठाकुरफानू के शासनकाल से शुरू हुआ था।

मालदीव देश से जुड़े रोचक तथ्य और अनोखी जानकारियाँ

  • मालदीव को आधिकारिक तौर पर मालदीव गणराज्य कहा जाता है जो हिंद महासागर में स्थित एक द्वीप देश है।
  • मालदीव ने 26 जुलाई 1965 में यूनाइटेड किंगडम (UK) से स्वतंत्रता हासिल की और वहाँ 3 साल राजशाही शासन के बाद, 11 नवम्बर 1968 को राजशाही समाप्त कर दी गयी।
  • मालदीव का कुल क्षेत्रफल 298 वर्ग कि.मी. (115 वर्ग मील) है जिसमे 1,192 टापू शामिल हैं।
  • मालदीव की आधिकारिक भाषा मालदीवियन (धिवेही) है।
  • मालदीव की मुद्रा का नाम मालदीवियन रूफिया है।
  • विश्व बैंक के अनुसार 2016 में मालदीव की कुल जनसंख्या 4.17 लाख थी।
  • मालदीव में अधिकत्तर लोगो का धर्म इस्लाम है जो सुन्नी समुदाय है।
  • मालदीव में केवल मालदीविपीय जातीयसमूह निवास करते हैं।
  • मालदीव की जलवायु उष्णकटिबंधीय मानसूनी (एम) है, जो उत्तर में दक्षिण एशिया के बड़े भू-भाग से प्रभावित है।
  • मालदीव का सबसे ऊँचा क्षेत्र अडू एटोल (Addu Atoll) है जो 11.23 कि.मी के क्षेत्र में फैला है।
  • मालदीव की अर्थव्यवस्था पर्यटन और मत्स्य पालन पर आधारित हैं, पर्यटन की सुविधा बढ़ाने के लिए 70 से अधिक द्वीपों को विकसित किया गया हैं।
  • मालदीव में 17 अक्टूबर 2009 को दुनिया की सबसे पहली पानी के भीतर (Under Water) कैबिनेट की बैठक आयोजित की गई थी।
  • मालदीव राष्ट्रीय फूल पिंकरोस (रोजा पॉलींथा) है।
  • मालदीव का राष्ट्रीय पेड़ नारियल का पेड़ (कोकोस नुसीफेरा) है।

मालदीव देश की ऐतिहासिक महत्वपूर्ण घटनाएं

  • 04 जून 1964 - मालदीव ने संविधान का निर्माण किया।
  • 26 जुलाई 1965 - मालदीव ब्रिटेन के अधीनता से स्वतंत्र हुआ।
  • 20 अक्टूबर 1998 - मालदीव के राष्ट्रपति अब्दुल गयूम पांचवी बार पुन: राष्ट्रपति पद पर निर्वाचित।
  • 17 सितम्बर 2004 - यूरोपीय संसद ने मालदीव पर प्रतिबंध लगाने का प्रस्ताव पारित किया।
  • 26 दिसम्बर 2004 - रिक्टर पैमाने पर 9.3 की तीव्रता वाले भूकंप से आई सूनामी के कारण श्रीलंका, इंडिया, इंडोनेशिया, थाईलैंड, मलेशिया, मालदीव और आस पास के क्षेत्रों में भारी तबाही हुई और 2,30,000 लोगों की मौत हुई।
  • 17 अक्टूबर 2009 - हिंद महासागर में स्थित मालदीव ने पानी के अंदर दुनिया की पहली कैबिनेट बैठक कर सभी देशों को ग्लोबल वार्मिंग के खतरे से आगाह करने की कोशिश की।
  • 7 अप्रैल 2011 - जॉयस बंदा को मालदीव के राष्ट्रपति के रूप में चुना गया था। उन्हें बिंगू WA मुथुविका के बाद अध्यक्ष के रूप में चुना गया था।
  • 7 फरवरी 2012 - मालदीव में कई महीनों के राजनीतिक संकट ने राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद के इस्तीफे को खत्म कर दिया।

मालदीव के आबादी वाले शहरों की सूची

Male, Un'goofaaru, Veymandoo, Fonadhoo, Rasdhoo, Thulusdhoo, Dhihdhoo, Foammulah, Viligili, Thinadhoo, Naifaru, Muli, Eydhafushi, Felidhoo, Funadhoo, Hithadhoo, Kudahuvadhoo, Kulhudhuffushi, Mahibadhoo, Manadhoo, Nilandhoo,

मालदीव के 3 पड़ोसी देश

India [M] , Sri Lanka [M] , United Kingdom [M] ,
अंतरराष्ट्रीय सीमा की परिभाषा: L = Land Border (भूमि सीमा)| M = Maritime Border (समुद्री सीमा)


You just read: Country Maldives - ASIA CONTINENT Topic

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *