अन्ना चांडी का जीवन परिचय – Anna Chandy Biography in Hindi

उच्च न्यायालय की प्रथम भारतीय महिला न्यायाधीश: अन्ना चांडी का जीवन परिचय: (Biography of Anna Chandy in Hindi)

जस्टिस अन्ना चांडी भारत की प्रथम महिला न्यायाधीश थीं और भारत के उच्च न्यायालय की पहली महिला न्यायाधीश भी थी। एलिजाबेथ लेन के दशकों से पहले वह पूरे एंग्लो-सैक्सन दुनिया में पहली महिला न्यायाधीश थी। वे साल 1928 में न्यायालयी सेवा में आयीं और उन्हें सर सी.पी.रामास्वामी द्वारा जिला न्यायाधीश (मुंसिफ) के रूप में नियुक्त किया गया।

अन्ना चांडी के जीवन परिचय का संक्षिप्त विवरण:

नाम अन्ना चांडी
जन्म तिथि 04 मई 1905
जन्म स्थान केरल (भारत)
निधन तिथि 20 जुलाई 1966
उपलब्धि उच्च न्यायालय की प्रथम भारतीय महिला न्यायाधीश
उपलब्धि वर्ष 1959

अन्ना चांडी से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य (Important Facts Related to Anna Chandy)

  1. अन्ना चांडी का जन्म 04 मई 1905 केरल, भारत में एक मलयाली सीरियाई ईसाई माता-पिता के यहाँ हुआ था।
  2. वर्ष 1926 में स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त करने के बाद, वह अपने राज्य की पहली महिला बनी थी जिसने केरल में कानून की डिग्री ली थी।
  3. 1929 से एक वकील के रूप में अभ्यास करते समय, वह सक्रिय रूप से महिलाओं के अधिकारों और समाज में उनकी मूल भूमिका के कारणों को बढ़ावा देने में सक्रिय रूप से शामिल थीं।
  4. उन्होंने 1931 में श्री मुलम पॉप्युलर असेंबली को चुनौती दी और 1932-34 की अवधि के लिए सफलतापूर्वक चुनी गई।
  5. अन्ना चांडी भारत में महिलाओं के अधिकारों के शुरुआती मशाल जलने वालों में से एक थी।
  6. अपने कार्यकाल के दौरान उन्होने भारत के कानूनी क्षेत्र में महिलाओं के कैरियर रूपी आशाओं को जन्म दिया।
  7. जब 09 फरवरी 1959 को उन्हें केरल उच्च न्यायालय में नियुक्त किया गया था, तब वह भारतीय उच्च न्यायालय में नियुक्त होने पहली महिला न्यायाधीश बनी थी। वह 05 अप्रैल 1967 तक उस कार्यालय में बनी रही।
  8. अपनी सेवानिवृत्ति में, चांडी ने भारत के कानून आयोग में भी काम किया और वर्ष 1973 में ‘आत्मकथा’ नाम की बुक भी लिखी।
  9. अन्ना चांडी का 20 जुलाई 1996 को निधन हो गया।

This post was last modified on July 27, 2019 8:48 pm

महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर (FAQs):

  • प्रश्न: अन्ना चांडी कब एक वकील के रूप में अभ्यास करते समय सक्रीय रूप से महिलाओ के अधिकार और समाज में उनकी मूल भूमिका के कारणों को बढ़ावा देने में सक्रीय रूप से शामिल थी?
    उत्तर: 1929
  • प्रश्न: 1931 में श्री मुलम पॉप्युलर असेंबली को चुनौती किसने दी थी?
    उत्तर: अन्ना चांडी
  • प्रश्न: अन्ना चांडी ने 1973 में कौन से किताब लिखी थी?
    उत्तर: आत्मकथा
  • प्रश्न: 09 फरवरी 1959 में अन्ना चांडी को कहाँ के उच्च न्यायालय में नियुक्त किया गया था?
    उत्तर: केरल
  • प्रश्न: केरल के उच्च न्यायालय में अन्ना चांडी की नियुक्ति कब तक बनी रही थी?
    उत्तर: 05 अप्रैल 1967
You just read: Anna Chandy Biography - FAMOUS PEOPLE Topic

Recent Posts

26 अक्टूबर का इतिहास भारत और विश्व में – 26 October in History

आईये जानते हैं भारत और विश्व इतिहास में 26 अक्टूबर यानि आज के दिन की महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में।…

October 26, 2020

विजयदशमी (दशहरा) 2020

विजयदशमी (दशहरा) के बारे में जानकारी: विजयदशमी जिसे दशहरा, या दशैन के नाम से भी जाना जाता है, जो हर…

October 25, 2020

25 अक्टूबर का इतिहास भारत और विश्व में – 25 October in History

आईये जानते हैं भारत और विश्व इतिहास में 25 अक्टूबर यानि आज के दिन की महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में।…

October 25, 2020

विश्व पोलियो दिवस (24 अक्टूबर)

विश्व पोलियो दिवस कब मनाया जाता है? पूरे विश्व में प्रत्येक वर्ष 24 अक्टूबर को विश्व पोलियो दिवस मनाया जाता है। जोनास…

October 24, 2020

24 अक्टूबर का इतिहास भारत और विश्व में – 24 October in History

आईये जानते हैं भारत और विश्व इतिहास में 24 अक्टूबर यानि आज के दिन की महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में।…

October 24, 2020

आज़ाद हिंद सरकार की कैबिनेट में पहली महिला सदस्य: लक्ष्मी सहगल का जीवन परिचय

लक्ष्मी सहगल का जीवन परिचय: (Biography of Lakshmi Sahgal in Hindi) लक्ष्मी सहगल भारत की स्वतंत्रता संग्राम की सेनानी थी।…

October 23, 2020

This website uses cookies.