दादा भाई नौरोजी का जीवन परिचय | Biography of Dadabhai Naoroji in Hindi

भारतीय राजनीति के पितामह: दादा भाई नौरोजी का जीवन परिचय

दादा भाई नौरोजी का जीवन परिचय (Biography of Dadabhai Naoroji in Hindi)

दादा भाई नौरोजी एक महान स्वतंत्रता संग्रामी, शिक्षाविद , उद्योगपति और सामाजिक नेता थे। दादाभाई नौरोजी वर्ष 1850 में एलफिन्स्टन संस्थान में प्रोफेसर और ब्रिटिश सांसद बनने वाले पहले भारतीय थे। वे ‘ग्रैंड ओल्ड मैन ऑफ इंडिया’ और ‘भारतीय राष्ट्रवाद के पिता’ के महान व्यक्तित्व से पहचाने जाते थे।

संक्षिप्त विवरण (Quick Info):

नाम दादा भाई नौरोजी
जन्म तिथि 04 सितम्बर 1825 (मुम्बई, महाराष्ट्र)
निधन तिथि 30 जून 1917
उपलब्धि ब्रिटिश सांसद बनने वाले प्रथम भारतीय व्यक्ति
उपलब्धि वर्ष 1892

दादा भाई नौरोजी से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य: (Important Facts Related to Dadabhai Naoroji)

  • दादाभाई नौरोजी का जन्म 04 सितम्बर, 1825 को मुम्बई, महाराष्ट्र के एक गरीब पारसी परिवार में हुआ था।
  • जब दादाभाई 4 वर्ष के थे, तब उनके पिता का देहांत हो गया। उनकी माँ ने निर्धनता में भी बेटे को उच्च शिक्षा दिलाई। उच्च शिक्षा प्राप्त करके दादाभाई लंदन के यूनिवर्सिटी कॉलेज में पढ़ाने लगे थे।
  • केवल 25 वर्ष की आयु में एलफिनस्टोन इंस्टीट्यूट में लीडिंग प्रोफेसर के तौर पर नियुक्त होने वाले पहले भारतीय बने।
  • सन 1855 में दादाभाई नौरोजी ‘कामा एंड को’ कंपनी के पार्टनर बन गए, यह पहली भारतीय कंपनी थी, जो ब्रिटेन में स्थापित हुई थी।
  • साल 1866 में उन्होंने इंग्लैंड में ‘ईस्ट इंडिया एसोसिएशन’ की स्थापना की थी।
  • वर्ष 1874 में वह बड़ौदा के प्रधानमंत्री बने और तब वे तत्कालीन बंबई के लेजिस्लेटिव काउंसिल के सदस्य चुने गये।
  • वर्ष 1886 में उन्हें भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष के रूप में चुना गया था।
  • नौरोजी वर्ष 1892 में हुए ब्रिटेन के आम चुनावों में ‘लिबरल पार्टी’ के टिकट पर ‘फिन्सबरी सेंट्रल’ से जीतकर भारतीय मूल के पहले ‘ब्रितानी सांसद’ बने थे।
  • उन्होंने 1906 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के ‘कलकत्ता अधिवेशन’ की अध्यक्षता की।
  • 30 जून 1917 में 92 वर्ष की आयु में दादाभाई नौरोजी का निधन हो गया।
(Visited 33 times, 1 visits today)

Like this Article? Subscribe to feed now!

Leave a Reply

Scroll to top