स्वतंत्र भारत के प्रथम सेनाध्यक्ष: के. एम. करिअप्पा का जीवन परिचय


Famous People: K M Cariappa Biography



कोडंडेरा मडप्पा करिअप्पा का जीवन परिचय: (Biography of first Field Marshal K. M. Cariappa in Hindi)

फील्ड मार्शल के. एम. करिअप्पा भारत के प्रथम सेनाध्यक्ष थे। उनका पूरा नाम कोडंडेरा मडप्पा करिअप्पा था। करिअप्पा का जन्म 28 जनवरी, 1899 में कर्नाटक के कोडागु (कुर्ग) में शनिवर्सांथि नामक स्थान पर हुआ था। उन्होंने साल 1947 में हुए भारत-पाक युद्ध में पश्चिमी सीमा पर भारतीय सेना का नेतृत्व किया। वे भारतीय सेना के उन दो अधिकारियों में शामिल हैं जिन्हें फील्ड मार्शल की पदवी दी गयी थी। इसके बाद से ही 15 जनवरी ‘सेना दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। सन 1953 में फील्ड मार्शल करिअप्पा भारतीय सेना से सेवानिवृत्त हो गए। 15 मई 1993 में 94 वर्ष की आयु में के. एम. करियप्पा का निधन हो गया।

कोडंडेरा मडप्पा करिअप्पा का संक्षिप्त विवरण (Quick Info about K. M. Cariappa):

नाम के. एम. करिअप्पा
जन्म तिथि 28 जनवरी, 1899
जन्म स्थान कोडागु (कुर्ग), कर्नाटक
निधन तिथि 15 मई, 1993
उपलब्धि स्वतंत्र भारत के प्रथम सेनाध्यक्ष (फ़ील्ड मार्शल)
उपलब्धि वर्ष 1949

के. एम. करिअप्पा से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य: (Important Facts Related to K. M. Cariappa)

  1. के. एम. करिअप्पा के पिता कोडंडेरा माडिकेरी में एक राजस्व अधिकारी थे।
  2. फील्ड मार्शल कोडंडेरा मडप्पा करिअप्पा अपने परिवार सहित लाइम कॉटेज में रहा करते थे। करिअप्पा के 3 भाई तथा 2 बहनें भी थी। के. एम. करिअप्पा को घर में सभी लोग प्यार से ‘चिम्मा’ कहकर पुकारते थे।
  3. के. एम. करिअप्पा की प्रारम्भिक शिक्षा माडिकेरी के सेंट्रल हाई स्कूल में हुई। शुरू से ही वह पढ़ाई में बहुत अच्छे थे। उन्हें मैथ्स और चित्रकला बेहद पसंद थी। साल 1917 में स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद उन्होंने मद्रास के प्रेसीडेंसी कालेज में एडमिशन ले लिया।
  4. के. एम. करिअप्पा भारतीय सेना के पहले अधिकारी हैं जिन्हें फील्ड मार्शल की पदवी दी गई। फील्ड मार्शल सैम मानेकशा दूसरे ऐसे अधिकारी थे, जिन्हें फील्ड मार्शल का रैंक दिया गया था।
  5. करियप्पा को ‘कीपर’ के नाम से पुकारा जाता था। वह फील्ड मार्शल के पद पर पहुंचने वाले इकलौते भारतीय है।
  6. पूर्व पाकिस्तानी राष्ट्रपति और फील्ड मार्शल अयूब खाने ने वर्ष 1946 में उनके तहत काम किया।
  7. के. एम. करिअप्पा को 15 जनवरी 1949 में सेना प्रमुख नियुक्त किया गया।
  8. साल 1953 में के. एम. करिअप्पा को ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैण्ड में भारत के उच्चायुक्त के रूप में नियुक्त किया गया।
  9. पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति हैरी एस. ट्रूमैन द्वारा उन्हें ‘Order of the Chief Commander of the Legion of Merit’ उपाधि से सम्मानित किया।
  10. भारत सरकार ने साल 1986 में उनकी सेवाओं के लिए उन्हें ‘Field Marshal’ का पद प्रदान किया।

Like this Article? Subscribe to Our Feed!

Leave a Reply

Your email address will not be published.