वारेन हेस्टिंग्स का जीवन परिचय | Biography of Warren Hastings in Hindi

भारत के पहले ब्रिटिश गवर्नर जनरल ऑफ़ बंगाल: वारेन हेस्टिंग्स का जीवन परिचय

वारेन हेस्टिंग्स का जीवन परिचय (Biography of Warren Hastings in Hindi)

वारेन हास्टिंग्स भारत के पहले ब्रिटिश गवर्नर जनरल ऑफ़ बंगाल थे। इनका कार्यकाल 1772 से 1785 तक था। हेस्टिंग्स का जन्म 06 दिसम्बर 1732 में चर्चिल, ऑक्सफ़ोर्डशायर में हुआ था। उनके पिता का नाम पेनीस्टोन हेस्टिंग्स और माता का नाम हेस्टर हेस्टिंग्स था, हास्टिंग्स का जन्म होने के तुरंत बाद उनकी माँ का निधन हो गया था।

संक्षिप्त विवरण (Quick Info about Warren Hastings):

नाम वारेन हेस्टिंग्स
जन्म तिथि 06 दिसम्बर, 1732
जन्म स्थान लश्कर, ग्वालियर (मध्य प्रदेश)
निधन तिथि 22 अगस्त, 1818
उपलब्धि भारत के प्रथम ब्रिटिश गवर्नर जनरल ऑफ़ बंगाल
उपलब्धि वर्ष 1773

वारेन हेस्टिंग्स से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य: (Important Facts Related to Warren Hastings)

  • 1750 ई. में वारेन हेस्टिंग्स ईस्ट इण्डिया कम्पनी के एक ‘क्लर्क’ (लिपिक) के रूप में कलकत्ता (वर्तमान कोलकाता) पहुँचा।
  • वारेन हेस्टिंग्स को सन् 1773 में ”रेग्युलेटिंग एक्ट’ के द्वारा 1774 ई. में बंगाल का गर्वनर-जनरल नियुक्त किया गया।
  • सर्वप्रथम 1772 ई. में प्रशासनिक सुधार के अन्तर्गत वारेन हेस्टिंग्स ने ‘कोर्ट ऑफ़ डाइरेक्टर्स’ के आदेशानुसार बंगाल से ‘द्वैध शासन प्रणाली’ की समाप्ति की घोषणा की और सरकारी ख़ज़ाने का स्थानान्तरण मुर्शिदाबाद से कलकत्ता किया।
  • 1772 ई. में उसने प्रत्येक ज़िले में एक फ़ौजदारी तथा दीवानी अदालतों की स्थापना की। दीवानी न्यायलय कलेक्टरों के अधीन थे, जहाँ पर 500 रु. के मामलों का निपटारा किया जाता था।
  • वारेन हेस्टिंग्स ने राजस्व सुधारों को व्यवस्थित करने के लिए परीक्षण तथा अशुद्धि के नियम को अपनाया।
  • इसकी न्याय व्यवथा मुग़ल प्रणाली पर आधारित थी। वारेन हेस्टिंग्स ने व्यावसायिक सुधार के अन्तर्गत ज़मीदारों के क्षेत्र में कार्य कर रहे शुल्क गृहों को बन्द करवा दिया।
  • 1776 ई. में वारेन हेस्टिंग्स की संस्कृत भाषा में एक पुस्तक ‘कोड ऑफ़ जिनेटो लॉ’ प्रकाशित हुई।
  • वारेन हेस्टिंग्स ने मुग़ल सम्राट को मिलने वाली 26 लाख रुपये की वार्षिक पेंशन बन्द करवा दी।
  • सन् 1785 में जब वारेन हेस्टिग्स इंग्लैण्ड पहुँचा, तो उसके ऊपर महाभियोग लगाया गया। ब्रिटिश पार्लियामेंट में यह महाभियोग 1788 ई. से 1795 ई. तक चला, परन्तु अन्त में उसे आरोपों से मुक्त कर दिया गया।
  • वारेन हेस्टिंग्स का 22 अगस्त 1818 को निधन हो गया।
(Visited 77 times, 1 visits today)

Like this Article? Subscribe to feed now!

Leave a Reply

Scroll to top