इराक देश का इतिहास, भूगोल, अर्थव्यवस्था तथा महत्वपूर्ण घटनाएं

विश्व के भूगोल में इराक देश का एक अलग ही स्थान है| इस देश में कई ऐसी बातें है जो इस देश को अन्य देशों से अलग करती है जैसे की भाषा, रहन सहन, वेश-भूषा, संस्कृति, धर्म, व्यवसाय| आइये जानते है इराक (Iraq) देश से जुड़े कुछ ऐसे अनोखे तथ्य तथा इतिहास से जुड़ी महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में, जिन्हें जानकर आपका ज्ञान बढ़ेगा|

इराक देश की संक्षिप्त जानकारी

देश का नामइराक
देश की राजधानीबगदाद
देश की मुद्राइराकी दिनार
महाद्वीप का नामAsia

Read Also: देश का नाम, उनकी राजधानी तथा मुद्रा की सूची

इराक़ के इतिहास में असीरिया के पतन के बाद विदेशी शक्तियों का प्रभुत्व रहा है। ईसापूर्व छठी सदी के बाद से फ़ारसी शासन में रहने के बाद (सातवीं सदी तक) इसपर अरबों का प्रभुत्व बना। अरब शासन के समय यहाँ इस्लाम धर्म आया और बगदाद अब्बासी खिलाफत की राजधानी रहा। तेरहवीं सदी में मंगोल आक्रमण से बगदाद का पतन हो गया और उसके बाद की अराजकता के सालों बाद तुर्कों (उस्मानी साम्राज्य) का प्रभुत्व यहाँ पर बन गया सन् 1932 में ब्रिटेन ने इराक़ को स्वतंत्र घोषित किया लेकिन इराक़ी मामलों में ब्रितानी हस्तक्षेप बना रहा। 1958 में हुए एक सैनिक तख्तापलट के कारण यहाँ एक गणतांत्रिक सरकार बनी पर 1968 में समाजवादी अरब आंदोलन ने इसका अंत कर दिया। इस आंदोलन के प्रमुख नेता रही बाथ पार्टी। इस पार्टी का सिद्धांत देश को दुनिया के नक्शे पर लाना और आधुनिक अरबी इस्लामिक राष्ट्र बनाना था।
इराक दुनिया का 58 वां सबसे बड़ा देश है। यह अमेरिकी राज्य कैलिफोर्निया के आकार में तुलनीय है, और पैराग्वे से कुछ बड़ा है। इराक में मुख्य रूप से रेगिस्तान होते हैं, लेकिन दो प्रमुख नदियों (यूफ्रेट्स और टाइग्रिस) के पास उपजाऊ जलोढ़ मैदान हैं अधिकांश इराक में उपोष्णकटिबंधीय प्रभाव के साथ गर्म शुष्क जलवायु है। देश के अधिकांश हिस्सों में गर्मी का औसत तापमान 40 ° C (104 ° F) से अधिक होता है और अक्सर 48 ° C (118.4 ° F) से अधिक होता है।
इराक की अर्थव्यवस्था में तेल क्षेत्र का वर्चस्व है, जिसने परंपरागत रूप से लगभग 95% विदेशी मुद्रा आय प्रदान की है। अन्य क्षेत्रों में विकास की कमी के परिणामस्वरूप 18% -30% बेरोजगार और $ 4,000 की प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद है। 2011 में सार्वजनिक क्षेत्र के रोजगार का लगभग 60% पूर्णकालिक रोजगार था। तेल निर्यात उद्योग, जो इराकी अर्थव्यवस्था पर हावी था, बहुत कम रोजगार उत्पन्न करता है। वर्तमान में केवल महिलाओं का एक मामूली प्रतिशत (2011 के लिए उच्चतम अनुमान 22% था) श्रम बल में भाग लेते हैं।
इराक में बोली जाने वाली मुख्य भाषा मेसोपोटामियन अरबी और कुर्दिश हैं, इसके बाद तुर्की की इराकी तुर्कमेन / तुर्कमन बोली और नियो-अरामी भाषाएं (विशेष रूप से चाल्डियन और असीरियन) हैं। अरबी और कुर्दिश अरबी लिपि के संस्करणों के साथ लिखे गए हैं। 2005 के बाद से, तुर्कमेन / तुर्कमन ने अरबी लिपि से तुर्की वर्णमाला में स्विच किया है। इसके अलावा, नव-अरामी भाषाएं सीरियक लिपि का उपयोग करती हैं।
  • इराक को आधिकारिक तौर पर इराक गणराज्य कहा जाता है जो एशिया के दक्षिण-पश्चिम में स्थित है।
  • इराक की सीमाएं पश्चिम में जोर्डन और सीरिया से, उत्तर में तुर्की और अज़रबैजान से, दक्षिण में सउदी अरब व कुवैत से और दक्षिण पश्चिम में फ़ारस की खाड़ी से और पूर्व में ईरान से लगती है।
  • इराक ने 3 अक्टूबर 1932 को यूनाइटेड किंगडम से आजादी हासिल की थी।
  • इराक का कुल क्षेत्रफल 438,317 वर्ग कि.मी. (169,234 वर्ग मील) है।
  • इराक की आधिकारिक भाषाएं अरबी और कुर्दिश है।
  • इराक की मुद्रा का नाम इराकी दिनार है।
  • विश्व बैंक के अनुसार 2016 में इराक की कुल जनसंख्या 3.72 करोड़ थी।
  • इराक में अधिकत्तर लोगो का धर्म इस्लाम है जिसमे अधिकत्तर शिया समुदाय के है व इस्लाम ही वहाँ का राजधर्म भी माना जाता है।
  • इराक में महत्वपूर्ण जातीयसमूह कुरदीश और अरबी है।
  • इराक का सबसे ऊँचा पर्वत चीखा दर (Cheekha Dar) है, जिसकी ऊंचाई 3,611 मीटर है।
  • इराक की सबसे लंबी नदी दजला नदी (Tigris River) है, जिसकी लंबाई 1,850 कि.मी. है।
  • इराक की सबसे बड़ी झील थर्थर झील (Lake Tharthar) है जो 2,710 वर्ग कि.मी. में फैली है।
  • इराक में उपोष्णकटिबंधीय जलवायु है जिसके प्रभाव के कारण एक साथ गर्म और शुष्क मौसम रहता है।
  • 20 मार्च, 2003 को अमेरिका ने इराक हमला किया और कारण यह बताया की इराक सामूहिक विनाश के हथियार बना रहा है जिसका वहाँ पर कोई भी प्रमाण नही मिला था।
  • इराक में 1979 में जनरल सद्दाम हुसैन तानाशाह बने जिन्हें 30 दिसंबर, 2006 को मानवता के खिलाफ अपराधों के लिए फांसी दी गई थी।
  • 23 अगस्त 1514 - ओटोमन बलों ने पूर्वी अनातोलिया और उत्तरी इराक पर नियंत्रण हासिल करने के लिए, अचलादिरन के युद्ध में सफाविद को हराया।
  • 16 मई 1916 - यूनाइटेड किंगडम और फ्रांस ने साइक्स-पिकोट समझौते पर हस्ताक्षर किए, एक गुप्त समझौते पर विचार किया गया जो मध्य पूर्व को आकार देता है, इराक और सीरिया की सीमाओं को परिभाषित करता है।
  • 03 जनवरी 1919 - इराक के अमीर फैसल ने फिलिस्तीन में एक यहूदी मातृभूमि और मध्य पूर्व के एक बड़े हिस्से में एक अरब राष्ट्र के विकास पर ज़ायोनी नेता चैम वीज़मैन के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए।
  • 29 जनवरी 1921 - मलिक फ़ैसल प्रथम को ब्रिटेन द्वारा तैयार की गयी भूमिका के आधार पर इराक़ का नरेश चुना गया।
  • 18 नवम्बर 1929 - नाजी अल-सुवेदी इराक के प्रधानमंत्री बने
  • 22 अप्रैल 1931 - मिस्र और इराक के बीच शांति संधि पर हस्ताक्षर किए गए थे।
  • 03 अक्टूबर 1932 - इराक को ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता हासिल हुई।
  • 03 अक्टूबर 1932 - इराक, ग्रेट ब्रिटेन से पूर्ण स्वतंत्रता प्राप्त करने वाला एक संप्रभु राज्य बन गया।
  • 07 अगस्त 1933 - इराकी सैनिकों द्वारा दाहुक और मोसुल जिलों में शिमले नरसंहार को अंजाम देते हुए अनुमानित 3,000 असीरियों का कत्ल कर दिया गया था।
  • 08 जुलाई 1937 - तुर्की, ईरान, इराक और अफगानिस्तान ने सौदाबाद की संधि पर हस्ताक्षर किए।
Iran [LM] , Jordan [L] , Kuwait [LM] , Saudi Arabia [L] , Syria [L] , Turkey [L] ,
अंतरराष्ट्रीय सीमा की परिभाषा: L = Land Border (भूमि सीमा)| M = Maritime Border (समुद्री सीमा)
  Last update :  2022-06-28 11:44:49
  Post Views :  1552