पंजाब का इतिहास, भूगोल, अर्थव्यवस्था, राजनीति तथा जिले

✅ Published on October 29th, 2021 in भारत, भारतीय राज्य

इस अध्याय के माध्यम से हम पंजाब (Punjab) की विस्तृत एवं महत्वपूर्ण जानकारी जानेगें, जिसमे राज्य का इतिहास, भूगोल, अर्थव्यवस्था, शिक्षा, संस्कृति और राज्य में स्थित विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल आदि जैसी महत्वपूर्ण एवं रोचक जानकरियों को जोड़ा गया है। इसके अतिरिक्त पंजाब राज्य में हाल ही में हुये विकास व बदलाव को भी विस्तारपूर्वक बताया गया है। यह अध्याय प्रतियोगी परीक्षार्थियों के साथ-साथ पाठकों के लिए भी रोचक तथ्यों से भरपूर है। Punjab General Knowledge and Recent Developments (Hindi).

पंजाब का संक्षिप्त सामान्य ज्ञान

राज्य का नामपंजाब (Punjab)
इकाई स्तरराज्य
राजधानीचंडीगढ़
राज्य का गठन1 नवम्बर 1966
सबसे बड़ा शहरलुधियाना
कुल क्षेत्रफल50,362 वर्ग किमी
जिले22
वर्तमान मुख्यमंत्रीचरणजीत सिंह चन्नी
वर्तमान गवर्नर बनवारीलाल पुरोहित
राजकीय पक्षी राजबाज़
राजकीय फूलग्लैडियोलस
राजकीय जानवरकाला हिरन
राजकीय पेड़शीशम
राजकीय भाषापंजाबी
लोक नृत्यभांगड़ा, गिद्दा, दफ्फ, धामन, भांड, नकूला।

पंजाब (Punjab)

पंजाब देश की उत्तर-पश्चिम दिशा में स्थित एक राज्य है। चंडीगढ़ पंजाब और हरियाणा की संयुक्त प्रशासनिक राजधानी है। राज्य की सीमायें पश्चिम में पाकिस्तान, उत्तर में जम्मू और कश्मीर, उत्तर-पूर्व में हिमाचल प्रदेश और दक्षिण में हरियाणा और राजस्थान से लगती हैं। पंजाब का कुल क्षेत्रफल 50,362 वर्ग किलोमीटर है। राज्य का सबसे बड़ा शहर लुधियाना हैं। पंजाब के अन्य प्रमुख नगरों में अमृतसर, लुधियाना, जालंधर, पटियाला, नवांशहर, आनंदपुर साहिब और बठिंडा हैं।

पंजाब शब्द का अर्थ (Definition of Punjab Word): पंजाब’ शब्द फारसी के ‘पंज’ जिसका अर्थ होता है ‘पांच’ और ‘आब’ जिसका अर्थ होता है ‘पानी’ के मेल से बना है जिसका शाब्दिक अर्थ ‘पांच नदियों का क्षेत्र’ है। इसलिए इसे पाँच नदियों की भूमि भी कहा जाता है। ये पांच नदियां हैं- सतलुज, व्यास, रावी, चिनाब और झेलम।

प्राचीन काल में पंजाब भारत और ईरान का हिस्सा हुआ करता था। पंजाब में मौर्य, बैक्ट्रियन, यूनानी, शक, कुषाण, गुप्त जैसे अनेकों राजवंशों ने शासन किया था। मध्यकाल के दौरान पंजाब मुस्लिम शासकों के अधीन रहा। प्राचीन पंजाब पर सबसे पहले गज़नवी, ग़ोरी, ग़ुलाम वंश, ख़िलजी वंश, तुग़लक, लोदी और मुग़ल वंश के शासकों ने शासन किया था। सन 1849 में अंग्रेजों और सिखों के बीच दो निष्फल युद्धों के बाद पंजाब ब्रिटिश शासन के अधीन हो गया। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद वर्ष 1947 में भारत के विभाजन के समय पंजाब पर सबसे ज्यादा असर हुआ। सबसे ज्यादा विनाश और नुकसान उत्तर भारत के इस राज्य को ही हुआ। पूर्वी पंजाब की आठ रियासतों को मिलाकर नया राज्य ‘पेप्सू’ बनाया गया और ‘पूर्वी पंजाब राज्य संघ, पटियाला’ का निर्माण करके पटियाला को इसकी राजधानी बनाया गया, लेकिन बाद में साल 1956 में ‘पेप्सू’ को पंजाब में मिला दिया गया। इस प्रकार 01 नवम्बर, 1956 को आधिकारिक रूप से पंजाब राज्य की स्थापना हुई थी।
पंजाब देश के उत्तर-पश्चिमी भाग में स्थित है। इसका कुल क्षेत्रफल 50,362 वर्ग किलोमीटर है। राज्य के अक्षांशीय और लंबवत विस्तार क्रमशः 29.30 डिग्री उत्तर से 32.32 डिग्री उत्तर, और 73.55 डिग्री पूर्व से 76.50 डिग्री पूर्व है। राज्य का ज्यादातर क्षेत्र जलोढ़ और उपजाउ मैदानी भाग है। पंजाब पाँच नदियों की भूमि भी कहा जाता है। ये पांच नदियां सतलज, रावी, ब्यास, चिनाब और झेलम हैं। इस प्रांत का दक्षिण-पश्चिम भाग अर्द्ध शुष्क है और राज्य के आखिर में जाकर थार रेगिस्तान में मिलता है। पंजाब का राजकीय पक्षी 'उत्तरी बाज' है। पंजाब का राजकीय पेड 'शीशम' है। पंजाब का राजकीय पशु 'कृष्णमृग' है।
राज्य की जलवायु अंतर्देशीय उपोष्ण कटिबंधीय अवस्थिति के कारण अर्द्ध शुष्क से अर्द्ध नम के बीच विविधतापूर्ण है। गर्मी का मौसम बेहद गर्म होता है और जून में औसत तापमान 34° से. से 45° से. तक पहुँच जाता है। यहाँ शीत ऋतु में सर्दी भी काफ़ी पड़ती है। जनवरी में औसत तापमान 13° से. होता है और कभी-2 जीरो डिग्री तक भी चला जाता है। राज्य में मॉनसून का मौसम जुलाई से सितम्बर के बीच होता है। पंजाब में अधिकतम वार्षिक वर्षा 356 मिमी. से 1,245 मिमी. तक होती है।

देश के अन्य राज्यों की भांति पंजाब सरकार की भी तीन शाखाएं हैं - कार्यकारी, न्यायपालिका और विधायी। पंजाब की सरकार भी संसदीय प्रणाली का पालन करती है और मुख्यमंत्री सरकार का प्रमुख होता है। पंजाब में 117 विधान सभा सदस्य, 13 लोक सभा सदस्य और 7 राज्य सभा सदस्य हैं।

पंजाब के वर्तमान मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी है। पंजाब के मुख्‍यमंत्री बनने वाले प्रथम व्यक्ति गोपी चंद भार्गव थे। उन्होंने 15 अगस्त 1947 राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी।

पंजाब के वर्तमान राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित है। बनवारीलाल पुरोहित ने 31 अगस्त 2021 को पंजाब के 29 वें राज्यपाल के रूप में शपथ ग्रहण की है।


उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (DPIIT) के अनुसार, पंजाब राज्य में संचयी FDI प्रवाह अक्टूबर 2019 और मार्च 2021 के बीच 741.23 मिलियन अमेरिकी डॉलर रहा। फरवरी 2021 तक, पंजाब में 14,376.29 मेगावाट की कुल स्थापित बिजली उत्पादन क्षमता थी, जिसमें से 4,214.54 मेगावाट केंद्रीय क्षेत्र, राज्य उपयोगिताओं (3,281.20 मेगावाट), और निजी क्षेत्र (6,880.55 मेगावाट) के अधीन थी। कुल स्थापित बिजली उत्पादन क्षमता में से 8,765.51 मेगावाट थर्मल पावर द्वारा, 3,809.12 मेगावाट जलविद्युत द्वारा और 1,604.85 मेगावाट अक्षय ऊर्जा द्वारा योगदान दिया गया था।
सन 1860 ई. में ब्रिटिश शासन के दौरान कृषि विभाग, पंजाब का गठन बहुत पहले किया गया था। अपने भरपूर जल स्रोतों और उपजाउ मिट्टी के कारण पंजाब एक कृषि प्रधान राज्य है। यहाँ की भूमि बहुत ही उपजाऊ है। यहाँ गेंहू और चावल की फ़सल मुख्य रूप से होती है्। गेहूँ और चावल की खेती लगभग तीन-चौथाई कृषि क्षेत्र में होती है। अन्य वाणिज्यिक फसलों में कपास, गन्ना, आलू, मक्का, मूंगफली, चना, बाजरा, दलहन और तिलहन हैं। पिछले दो से तीन दशकों में पंजाब ने गेहूँ का 40 से 50 प्रतिशत अधिक उत्पादन करके ‘देश की खाद्य टोकरी’ और ‘भारत का अनाज भंडार’ होने का ख़िताब ले लिया है। पंजाब का विश्व के कुल उत्पादन में, 1% चावल, 2% गेहूँ और कपास में 2% का योगदान है। राज्य में धीरे-धीरे बागबानी, फूलों की खेती, मुर्गीपालन और डेयरी उद्योगों का भी विकास हो रहा है। आनंदपुर साहब में विश्व की सबसे बड़ी अनाज मंडी है।
पंजाब की वर्तमान साक्षरता दर 77%त है। राज्य में 6 से 11 वर्ष तक के बच्चों के लिए प्राथमिक शिक्षा अनिवार्य है।
पंजाब दूसरा सबसे बड़ा प्रांत (क्षेत्रफल के अनुसार) है और इसमें कोयला, नमक, लौह अयस्क, चूना पत्थर, जिप्सम, और अग्नि मिट्टी आदि क्षेत्रों में विशाल खनिज क्षमता है।
सन् 2011 की जनगणना के अनुसार पंजाब की जनसंख्या 2,77,43,338 है। राज्य की कुल आबादी का करीब 20% हिस्सा देश के दूसरे हिस्सों से आकर पंजाब में बसा है।राज्य में सिख आबादी कुल जनसंख्या के 60% से भी ज्यादा है। राज्य की आबादी में शामिल कुछ अन्य समुदायों में हिंदू, जैन, मुस्लिम, ईसाई और अन्य हैं। राज्य के सिख समुदाय का अभिन्न अंग जाट सिख हैं।
जाबी पुरुषों के लिए पारंपरिक पोशाक 'पंजाबी कुर्ता' और 'तहमत' है, विशेष रूप से लोकप्रिय मुक्तसारी शैली, जिसे आधुनिक पंजाब में कुर्ता और पायजामा द्वारा प्रतिस्थापित किया जा रहा है। महिलाओं के लिए पारंपरिक पोशाक पंजाबी सलवार सूट है जिसने पारंपरिक पंजाबी घाघरा को बदल दिया है।

पंजाब प्रांत की संस्कृति विविध है। राज्य की संस्कृति में पुरातन सभ्यता की बहुआयामी विरासत साफ झलकती है। भांगड़ा, झूमर और सम्मी यहाँ के लोकप्रिय नृत्य हैं। पंजाब की स्थानीय नृत्य शैली गिद्दा, महिलाओं की विनोदपूर्ण गीत-नृत्य शैली है। सिक्खों के धार्मिक संगीत के साथ-साथ उपशास्त्रीय मुग़ल शैली भी लोकप्रिय है, जैसे खयाल, ठुमरी, गजल और कव्वाली।

पंजाबी पुरुषों के लिए पारंपरिक पोशाक 'पंजाबी कुर्ता' और 'तहमत' है, विशेष रूप से लोकप्रिय मुक्तसारी शैली, जिसे आधुनिक पंजाब में कुर्ता और पायजामा द्वारा प्रतिस्थापित किया जा रहा है। महिलाओं के लिए पारंपरिक पोशाक पंजाबी सलवार सूट है जिसने पारंपरिक पंजाबी घाघरा को बदल दिया है।


पंजाब की राजभाषा पंजाबी है। पंजाबी भाषा से कई बोलियां जुड़ी हैं। भारतीय पंजाब के लगभग 25% लोग हिन्दी बोलती है, विशेष तौर पर हरियाणा और राजस्थान से सटे इलाकों में। पंजाबी में बोली जाने वाली कुछ खास बोलियों में माझी, पुआधी, मालवी और दोआबी शामिल हैं। राज्य की सबसे प्रमुख बोली माझी है। अपनी पहली भाषा के तौर पर पंजाबी बोलने वाले लोगों में 93% से ज्यादा भारत और पाकिस्तान में रहते हैं।
पंजाब के मुख्य खानों में मक्खन से बनी चीजें, सब्जी भाजी और मटन के व्यंजन काफी प्रसिद्ध हैं। यहाँ के प्रमुख व्यंजनो में सरसों का साग, मक्के की रोटी, राजमा- चावल, तंदूरी मुर्ग़ा, दाल मखनी और छोले भटूरे आदि भी शामिल है।
राज्य के त्यौहारों की कुछ खास बातों में इनके मशहूर नृत्य रुप, मजेदार लोककथाएं और भड़कीले कपड़े आदि शामिल हैं। पंजाब में भारतीय त्यौहारों में दशहरा, दीपावली, और विभिन्न गुरुओं तथा संतों की वर्षगांठ-मनाए जाते हैं। इसके अतिरिक्त पंजाब के कई त्योहार- तीज, लोहड़ी, बसंत और बैसाखी, कुछ नाम हैं- ऐसे उत्सव हैं जो खेती के लोकाचार को दर्शाते हैं। दरअसल, पंजाब का पारंपरिक नृत्य भांगड़ा घूमता है
पंजाबी लोग, दक्षिण एशिया में पंजाब क्षेत्र से जुड़े एक इंडो-आर्यन नृवंशविज्ञान समूह हैं, विशेष रूप से भारतीय उपमहाद्वीप के उत्तरी भाग में वर्तमान में पाकिस्तानी पंजाब और भारतीय पंजाब के बीच विभाजित हैं। वे पंजाबी बोलते हैं, जो इंडो-आर्यन भाषा परिवार की एक भाषा है। पंजाब शब्द का अर्थ फारसी से पांच जल है: पंज ("पांच") और आब ("जल")। इस क्षेत्र का नाम भारतीय उपमहाद्वीप के तुर्क-फारसी विजेताओं द्वारा पेश किया गया था।

भारत के उत्तर-पश्चिमी छोर पर स्थित, यह देश के समृद्ध राज्यों में से एक है, और एक जीवंत, मेहमाननवाज और गतिशील लोगों का घर है। व्यापक रूप से सभ्यता के पालने के रूप में स्वीकार किया जाता है, यह जातीय और धार्मिक विविधता की भूमि है, जिसने कई धार्मिक आंदोलनों को जन्म दिया और आकार दिया। नीचे पंजाब के कुछ महत्वपूर्ण पर्यटक स्थलों की सूची दी गई है:-

  • अमृतसर का स्वर्णमंदिर
  • दुर्गियाना मंदिर
  • जलियाँवाला बाग़
  • स्टील सिटी- गोविन्दगढ़ में
  • आनंदपुर साहब में तख़्त श्री केशगढ़ साहिब
  • खालसा सांस्कृतिक परिसर
  • भाखड़ा-नांगल बांध
  • पटियाला में क़िला अंदरून
  • मोतीबाग़ राजमहल
  • हरिके पट्टन में आर्द्र भूमि
  • पुरातात्विक महत्त्व का संगोल और छतवीर चिडियाघर
  • आम ख़ास बाग़ में मुग़लकालीन स्मारक परिसर
  • सरहिंद में अफ़ग़ान शासकों की क़ब्रें
  • शेख़ अहमद का रोज़ा शरीफ
  • जालंधर में सोदाल मंदिर और महर्षि वाल्मीकि का स्मारक

  • वित्त वर्ष 2020 में पंजाब से कुल व्यापारिक निर्यात 5.61 बिलियन अमेरिकी डॉलर और वित्त वर्ष 2021 में 5.29 बिलियन अमेरिकी डॉलर रहा।
  • जून 2021 में, भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) ने रुपये के नियोजित बुनियादी ढांचे के विकास कार्यों की घोषणा की। चालू वित्त वर्ष (FY22) के लिए पंजाब में 1,417 करोड़ (194 मिलियन अमेरिकी डॉलर)। वार्षिक योजना में 295 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग शामिल होंगे।
  • सितंबर 2020 में, राज्य सरकार ने केंद्रीय सड़क और बुनियादी ढांचा कोष (CRIF) के तहत राज्य में सड़क संपर्क में सुधार के लिए 12 प्रमुख परियोजनाओं की शुरुआत की। जिसका खर्च 211.22 करोड़ (28.86 मिलियन अमेरिकी डॉलर) है।
  • मार्च 2020 में, पंजाब सरकार ने स्मार्ट स्कूलों और डिजिटल शिक्षा के लिए 'स्मार्ट स्कूल नीति' के तहत 100 करोड़ रुपये का परिव्यय आवंटित किया।
  • राज्य के बजट 2021-22 के तहत रु. सड़कों और पुलों के लिए 2,449 करोड़ (337.46 मिलियन अमेरिकी डॉलर) आवंटित किए गए हैं, जिनमें से रु. वित्त वर्ष 2022 में 560 किलोमीटर सड़कों और पुलों के उन्नयन, निर्माण और मरम्मत के लिए 575 करोड़ (79 मिलियन अमेरिकी डॉलर) आवंटित किए गए है।
  • मार्च 2021 में, केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने पंजाब में एक नया केंद्रीय विद्यालय खोलने की घोषणा की। राज्य में उच्च शिक्षा के लिए सकल नामांकन अनुपात 2017-18 में 30.3 पर पहुंच गया।
  • बजट 2021-22 के तहत 3,822 करोड़ रु. (526.65 मिलियन अमेरिकी डॉलर) राज्य के स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत करने के लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण के लिए आवंटित किए गए हैं।


📊 This topic has been read 309 times.

« Previous
Next »