पश्चिम बंगाल का इतिहास, भूगोल, अर्थव्यवस्था, राजनीति तथा जिले

✅ Published on October 29th, 2021 in भारत, भारतीय राज्य

इस अध्याय के माध्यम से हम पश्चिम बंगाल (West Bengal) की विस्तृत एवं महत्वपूर्ण जानकारी जानेगें, जिसमे राज्य का इतिहास, भूगोल, अर्थव्यवस्था, शिक्षा, संस्कृति और राज्य में स्थित विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल आदि जैसी महत्वपूर्ण एवं रोचक जानकरियों को जोड़ा गया है। इसके अतिरिक्त पश्चिम बंगाल राज्य में हाल ही में हुये विकास व बदलाव को भी विस्तारपूर्वक बताया गया है। यह अध्याय प्रतियोगी परीक्षार्थियों के साथ-साथ पाठकों के लिए भी रोचक तथ्यों से भरपूर है। West Bengal General Knowledge and Recent Developments (Hindi).

पश्चिम बंगाल का संक्षिप्त सामान्य ज्ञान

राज्य का नामपश्चिम बंगाल (West Bengal)
इकाई स्तरराज्य
राजधानीकोलकाता
राज्य का गठन26 जनवरी 1950
सबसे बड़ा शहरकोलकाता
कुल क्षेत्रफल88,752 वर्ग किमी
जिले23
वर्तमान मुख्यमंत्रीममता बनर्जी
वर्तमान गवर्नर जगदीप धनखड़
राजकीय पक्षी श्वेतग्रीवा किलकिला
राजकीय फूलप्राजक्ता
राजकीय जानवरमत्सय बिल्ली
राजकीय पेड़चितौन
राजकीय भाषाबंगाली, अंग्रेजी
लोक नृत्यकाठी, गंभीरा, ढाली, जतरा, बाउल, मरासिया, महाल, कीरतन।

पश्चिम बंगाल (West Bengal)

पश्चिम बंगाल देश के पूर्वी भाग में स्थित एक राज्य है। पश्चिम बंगाल की राजधानी और राज्य का सबसे बड़ा शहर कोलकाता है। राज्य के उत्तरी भाग में भूटान और सिक्किम, पूर्वी भाग में बांग्लादेश और उत्तर-पूर्वी भाग में असम, दक्षिणी भाग में बंगाल की खाड़ी, दक्षिणी-पश्चिमी भाग में ओडिशा, उत्तरी-पश्चिमी भाग में नेपाल और पश्चिमी भाग में बिहार स्थित है। पश्चिम बंगाल की मुख्य भाषा बांग्ला है।

देश के इतिहास में बंगाल का विशिष्‍ट स्‍थान है। सिकंदर के आक्रमण के समय बंगाल में ‘गंगारिदयी’ नामक साम्राज्‍य था। 13वीं शताब्दी से बंगाल पर इस्लामी शासन का आरम्भ हुआ तथा 16वीं शताब्दी में मुग़ल शासन काल में व्यापार तथा उद्योग का एक समृद्ध केन्द्र में विकसित हुआ। 15वीं शताब्दी के अन्त तक यहाँ यूरोपीय व्यापारियों का आगमन हो चुका था तथा 18वीं शताब्दी के अन्त तक यह क्षेत्र ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के नियन्त्रण में आ गया था। भारत में ब्रिटिश साम्राज्य का उद्गम यहीं से हुआ। 1947 में भारत स्वतंत्र हुआ और इसके साथ ही बंगाल, मुस्लिम प्रघान पूर्व बंगाल (जो बाद में बांग्लादेश बना) तथा हिंदू प्रघान पश्चिम बंगाल (भारतीय बंगाल) में विभाजित हुआ।
देश के पूर्वी भाग में फैले पश्चिम बंगाल का कुल क्षेत्रफल 88,752 वर्ग किमी. है। यह राज्य पूर्व में बांग्लादेश, उत्तर में भूटान और सिक्किम, उत्तर-पूर्व में असम, पश्चिम में झारखंड और बिहार से घिरा हुआ हैं। राज्य की भौगोलिक स्थिति 23 डिग्री उत्तरी अक्षांश और 88 डिग्री पूर्वी देशांतर है। गंगा नदी का मुहाना (सुंदरवन) विश्व का सबसे बड़ा मुहाना (डेल्टा) है। उत्तरी पर्वतीय भाग में तीस्ता, महानंदा, तोरसा आदि नदियां बहती हैं। पश्चिमी पठारी भाग में दामोदर, अजय, कंग्साबाती आदि प्रमुख धाराएं हैं। पश्चिम बंगाल का राजकीय पक्षी 'श्वेत-वक्षी किलकिला' है। पश्चिम बंगाल का राजकीय फूल 'प्राजक्ता' है। पश्चिम बंगाल का राजकीय पेड 'चैतियन' है।
पश्चिम बंगाल की जलवायु उष्णकटिबंधीय आर्द्र शुष्क है। प्रदेश वार्षिक औसत तापमान 26.8° से. रहता है। ग्रीष्म ऋतु में न्यूनतम तापमान लगभग 30° से 40° तक चला जाता है। दिसंबर से फ़रवरी के बीच शीत ऋतु में न्यूनतम तापमान 12° से. तक हो जाता है। राज्य में अधिकतम वर्षा अगस्त के महीने में होती हैं।

भारतीय राज्य पश्चिम बंगाल का एकसदनीय विधान भवन है। राज्य की विधानसभा में 295 सदस्य है जिनमे 294 सीधे जनता के द्वारा तथा एक सदस्य ऐंग्लो इंडियन समुदाय का नामांकित किया जाता है। राज्य से 58 सदस्य भारतीय संसद जाते हैं - 16 राज्य सभा और 42 लोक सभा।

पश्चिम बंगाल के मुख्य राजनीतिक दल (पार्टी) (West Bengal Political Parties):

राज्य के राष्ट्रीय दलों में कम्युनिस्ट पार्टी माक्र्सवादी, भाकपा, ऑल इंडिया फोर्वोर्ड ब्लॉक, बहुजन समाज पार्टी, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस, भारतीय जनता पार्टी, समाजवादी पार्टी और क्षेत्रीय दलों तृणमूल कांग्रेस, एसयूसीआई, सीपीआईएमएल, झारखंड मुक्ति मोर्चा, पीडीएस, जेडेएस, जेडीयू, आरएसपी जैसे कई राजनीतिक दल शामिल हैं।

पश्चिम बंगाल में इस समय तृणमूल कांग्रेस की सरकार है। ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल की वर्तमान मुख्यमंत्री है। वह साल 2011 से राज्य की पहली महिला मुख्यमंत्री के रूप में कार्यरत है। पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री बनने वाले प्रथम व्यक्ति प्रफुल चन्द्र घोष थे। उन्होंने 15 अगस्त 1947 में राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी। पश्चिम बंगाल के वर्तमान राज्यपाल जगदीप धनखड़ है। जगदीप धनखड़ ने 30 जुलाई 2019 को पश्चिम बंगाल के राज्यपाल के रूप में शपथ ग्रहण की है।


पश्चिम बंगाल पूर्वी भारत का प्राथमिक व्यापार और वित्तीय केंद्र है। राज्य मुख्य रूप से कृषि और मध्यम आकार के उद्योग पर निर्भर है। पश्चिम बंगाल में जूट उद्योग, चाय उद्योग है। पश्चिम बंगाल कोयले जैसे खनिजों में समृद्ध है। भारत की स्वतंत्रता के बाद से, हरित क्रांति ने राज्य को दरकिनार कर दिया। हालाँकि, 1980 के दशक से खाद्य उत्पादन में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है।
राज्य की अर्थव्यवस्था में कृषि का महत्वपूर्ण योगदान है। 2009-10 में सकल राज्य घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी) में इसका योगदान लगभग 18.7% था। राज्य की आबादी की बहुलता किसान किसान हैं। यह चाय का भी प्रमुख उत्पादक है। भारत के चावल उत्पादक राज्यों में इसका महत्वपूर्ण स्थान है। राज्य की अन्य प्रमुख फसलों में आलू, तिलहन, पान, तंबाकू, गेंहू, जौ और मक्का हैं।
पश्चिम बंगाल में शिक्षा सार्वजनिक क्षेत्र के साथ-साथ निजी क्षेत्र दोनों द्वारा प्रदान की जाती है। आधुनिक शिक्षा प्रणाली ब्रिटिश मिशनरियों और भारतीय समाज सुधारकों द्वारा विकसित की गई थी।
राज्य का खनिज उत्पादन भी अच्छा है जिसमें डोलोमाइट, चूना पत्थर और चीनी मिट्टी शामिल हैं। पश्चिम बंगाल साल 2007 के उपलब्‍ध आंकड़ों के अनुसार 3677.51 करोड़ रुपए की निवेश वाली 96 परियोजनाएं शुरू की गईं। राज्य में स्टील प्लांट, ऑटोमोबाइल विनिर्माण प्लांट और कई केमिकल, मशीनरी, निर्माण और हल्के-इंजीनियरिंग जैसे विभिन्न प्रकार के उद्योग हैं।
वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार पश्चिम बंगाल की आबादी 9,12,76,1115 है। पश्चिम बंगाल की जनसंख्या का घनत्व 1029 प्रति वर्ग किमी. है। राज्य की कुल आबादी में पुरुषों और महिलाओं का अनुपात 947 का है। पश्चिम बंगाल की जनसंख्या में बंगली आबादी का प्रभुत्व है। दूसरे राज्यों से आए लोगों की वजह से पश्चिम बंगाल की आबादी विविधता से समृद्ध हुई है।
पश्चिम बंगाल की वेशभूषा अपनी विशिष्ट विशेषताओं के लिए जानी जाती है और शायद हमारी संस्कृति का सबसे लोकप्रिय उदाहरण है। बंगाली पुरुषों की पारंपरिक पोशाक धोती है। धोती के साथ जो टॉप या कुर्ता जोड़ा जाता है उसे पंजाबी कहा जाता है।
पश्चिम बंगाल में नृत्य, संगीत तथा चलचित्रों की लम्बी तथा सुव्यवस्थित परम्परा रही है। बांग्ला साहित्य का आविर्भाव 12वीं सदी से पहले हुआ। हिन्दू धर्म के एक संघन भावनात्मक स्वरूप, चैतन्य आन्दोलन, को मध्यकालीन संत चैतन्य (1485-1533) ने प्रेरित किया। क्रिकेट तथा फुटबॉल यहां के लोकप्रियतम खेलों में से हैं। चित्रकला के अनुसार, मुख्यत: मिट्टी की मूर्तियों, पक्की ईंटों (टेराकॉटा) की कृतियों और सज्जा-चित्रों पर आधारित हैं। 19वीं सदी की सुविख्यात भारतीय ऐतिहासिक अनुसंधान सभा एशियाटिक सोसाइटी ऑफ़ बंगाल, पश्चिम बंगाल में है।
पश्चिम बंगाल की मुख्य भाषा बांग्ला है। राज्य के कई हिस्सों में हिंदी, उर्दू, नेपाली, उड़ाया, संताली और अंग्रेजी भाषा भी बोली जाती हैं।अंग्रेजी भाषा का इस्तेमाल प्रशासन और व्यावसायिक कार्यों के लिए किया जाता है। दार्जिलिंग जिले के तीन उपखंडों की आधिकारिक भाषा नेपाली है।
पश्चिम बंगाल राज्य में प्रत्येक जाति का अपना अलग-2 खानपान है। पश्चिम बंगाल के लोग मछली-भात बहुत पसंद करते हैं । पश्चिम बंगाल मिठाईयों के लिये प्रसिद्ध है। रसगुल्ले का आविष्कार भी यहीं हुआ था।
राज्य के सबसे महत्‍वपूर्ण त्यौहार दुर्गा पूजा है। इसके अतिरिक्त काली पूजा, सरस्वती पूजा, दीपावली, बसंत पंचमी, लक्ष्‍मी पूजा, होली, शिवरात्रि, जन्‍माष्‍टमी, ईद, क्रिसमस आदि त्यौहार भी धूमधाम से मनाये जाते हैं। बंगाल में आयोजित होने वाले मेलों में गंगासागर मेला, केंदोली मेला, जालपेश मेला, राश मेला तथा पौष मेला आदि प्रमुख हैं।
पश्चिम बंगाल में 40 से ज्यादा मान्य आदिवासी समुदाय हैं। इनमें से ज्यादा जाने जाने वाले संतल, ओराओ, मुनस, लेपचाओं और भूटिया हैं।
पश्चिम बंगाल की भौतिक विशेषताओं की विविधता राज्य को सैलानियों की पसंदीदा जगह बनाती है। पश्चिम बंगाल के हिल स्टेशल राज्य का सबसे बड़ा आकर्षण हैं। पश्चिम बंगाल के मुख्य पर्यटन स्थलों में हावड़ा ब्रिज, अयोध्या हिल, कूचबिहार पैलेस, रायगंज पक्षी अभयारण्य, महान् बरगद का पेड़, बेलूर मठ, गारचूमुक, पानीतरास-सम्ताबेर, विद्यासागर सेतु, जलपाईगुडी, बगमुंडी, बिरंचीनाथ, बुद्धपुर, चार्रा, गनपुर, कर्ज़न गेट, कंचननगर, कल्याणोश्वरी मन्दिर, कोलकाता, दीघा, बाक्‍ख़ाली सी रिजॉर्ट, सुंदरबन राष्ट्रीय पार्क, बंदेल, ताराकेश्‍वर, हुगली, शांति निकेतन और दार्जिलिंग, कालीमपोंग आदि शामिल हैं।
  • पश्चिम बंगाल का सकल राज्य घरेलू उत्पाद (जीडीपी) 2020-21 में 14.44 ट्रिलियन रुपये होने का अनुमान है। 2015-16 से 2020-21 तक औसत वार्षिक GDP वृद्धि दर लगभग 12.62% है।
  • पश्चिम बंगाल भारत में चावल का सबसे बड़ा उत्पादक है। 2017-18 में राज्य के लिए चावल का उत्पादन कुल 14.99 मिलियन टन था। वहीं 2018-19 के दौरान, राज्य ने कुल 1.85 मिलियन टन मछली का उत्पादन किया।
  • पश्चिम बंगाल भारत का दूसरा सबसे बड़ा चाय उत्पादक राज्य है और विश्व स्तर पर प्रशंसित दार्जिलिंग चाय किस्म का घर है।
  • यह झारखंड, बिहार और ओडिशा जैसे खनिज समृद्ध राज्यों के आसपास है। यह रेलवे, रोडवेज, बंदरगाहों और हवाई अड्डों के मामले में शेष भारत के लिए उत्कृष्ट कनेक्टिविटी प्रदान करता है।
  • अप्रैल 2021 तक, पश्चिम बंगाल में 11,036.88 मेगावाट की कुल स्थापित बिजली उत्पादन क्षमता थी, जिसमें से 6,497.95 मेगावाट राज्य उपयोगिताओं, 2,883.31 मेगावाट (निजी क्षेत्र) और 1,655.62 मेगावाट (केंद्रीय उपयोगिताओं) के अधीन थी।


📊 This topic has been read 320 times.

« Previous
Next »