भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा दिए गए प्रमुख वचन एवं नारे

भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा दिए गए प्रमुख वचन एवं नारे | Famous Slogans of Indian Freedom Fighters
भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा दिए गए प्रमुख वचन एवं नारे

स्वतंत्रता संग्राम के दौरान भारतीय क्रांतिकारियो द्वारा दिए गए प्रमुख वचन एवं नारे (Famous Slogans Given By Indian Freedom Fighters in Hindi)

भारत के स्वतंत्रता संग्राम में नारों की विशेष भूमिका है। स्वतंत्रता के लिए बोले गए हर नारे ने भारतीय क्रांतिकारियों में जान फूंक दी कि हर नारा अंग्रेजों के ताबूत में आखिरी कील साबित हुआ। स्वतंत्रता संग्राम के दौरान भारतीय क्रांतिकारियो द्वारा दिए गए इन नारों ने देश की जनता को भारत माता की आजादी के संघर्ष के लिए एक बड़ी प्रेरणा दी। ये नारे ऐसे थे जिन्होंने सभी भारतीय क्रांतिकारियो के अन्दर देशभक्ति की भावना को जगा दिया था, जिसके फलस्वरूप देश को 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्रता प्राप्त हुई।

यहां पर भारत के स्वतंत्रता संग्राम के समय के कुछ ऐसे ही नारों और वचनों की सूची दी गई हैं। सामान्यतः इन नारों और वचनों से सम्बंधित प्रश्न प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाते है। यदि आप विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे: आईएएस, शिक्षक, यूपीएससी, पीसीएस, एसएससी, बैंक, एमबीए एवं अन्य सरकारी नौकरियों के लिए तैयारी कर रहे हैं, तो आपको भारत में स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा दिए गये नारों के बारे में अवश्य पता होना चाहिए।

भारतीय स्‍वतंत्रता आंदोलन के प्रमुख वचन और नारो की सूची:

संबंधित व्यक्ति का नाम  प्रमुख नारे एवं वचन
मौलाना अबुल कलाम आज़ाद मुसलमान मूर्ख थे, जो उन्‍होंने सुरक्षा की मांग की और हिंदू उनसे भी मूर्ख थे, जो उन्‍होंने उस मांग को ठुकरा दिया।
चंद्रशेखर आजाद दुशमन की गोलियों का हम सामना करेंगे, आज़ाद ही रहे है, आजाद ही रहेंगे।
जयप्रकाश नारायण सम्पूर्ण क्रांति।
डॉ० मुरली मनोहर जोशी कश्मीर चलो।
दयानंद सरस्‍वती वेदों की ओर लौटो।
नेताजी सुभाषचन्द्र बोस “तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हे आज़ादी दूँगा”, “जय हिन्द”, “दिल्ली चलो”।
पंडित जवाहरलाल नेहरू पूर्ण स्वराज, आराम हराम है, हू लिव्स इंडिया डाइज।
पंडित मदन मोहन मालवीय सत्यमेव जयते।
पी. वी. नरसिम्हा राव देश बचाओ, देश बनाओ।
बंकिमचंद्र चटर्जी वन्देमातरम्।
बाल गंगाधर तिलक स्वराज हमारा जन्म – सिद्ध अधिकार है।
बिनोवा भावे जय जगत।
भारतेन्दु हरिश्चंद्र स्वदेशी अपनाओ, हिन्दी, हिन्दू, हिन्दोस्तांन।
मंगल पांडे मारो फिरंगी को।
मदनलाल धींगरा देश की पूजा ही राम की पूजा है।
महर्षी दयानंद सरस्वती वेदों की ओर लौटो।
महात्मा गाँधी हे राम, अंग्रेजो भारत छोड़ो, करो या मरो।
मोहम्मद इकबाल सारे जहाँ से अच्छा हिंदोस्तां हमारा।
रवीन्द्रनाथ टैगोर जन-गण-मन अधिनायक जय हे।
राम प्रसाद बिस्मिल सरफ़रोशी की तमन्ना, अब हमारे दिल में है, देखना है जोर कितना बाजु-ए- कातिल में है।
लाल बहादुर शास्त्री जय जवान, जय किसान।
लाला लाजपत राय साइमन कमीशन वापस जाओ।
श्यामलाल गुप्ता विजयी विश्व तिरंगा प्यारा।
श्रीमती इंदिरा गाँधी श्रमेव जयते।
संजय गाँधी काम अधिक बातें कम।
सरदार बल्लभ भाई पटेल कर मत दो।
सरदार भगत सिंह इन्कलाब जिन्दाबाद, साम्राज्यवाद का नाश हो।

नीचे दिए गए प्रश्न और उत्तर प्रतियोगी परीक्षाओं को ध्यान में रख कर बनाए गए हैं। यह भाग हमें सुझाव देता है कि सरकारी नौकरी की परीक्षाओं में किस प्रकार के प्रश्न पूछे जा सकते हैं। यह प्रश्नोत्तरी एसएससी (SSC), यूपीएससी (UPSC), रेलवे (Railway), बैंकिंग (Banking) तथा अन्य परीक्षाओं में भी लाभदायक है।

महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर (FAQs):

  • प्रश्न: 'भारत भारतीयों के लिए' नारा किस समाज ने दिया था?
    उत्तर: आर्य समाज ने (Exam - SSC LDC Aug, 1995)
  • प्रश्न: 1942 ई० में 'करो या मरो' का नारा किसने दिया था?
    उत्तर: महात्मा गाँधी (Exam - SSC STENO G-C Dec, 1996)
  • प्रश्न: ‘स्वतंत्रता, समानता एवं भाईचारा' का नारा किस क्रांति से संबंधित है?
    उत्तर: फ़्रांस की क्रान्ति (Exam - SSC CML May, 2000)
  • प्रश्न: 'दिल्ली चलो' का नारा किसने दिया था?
    उत्तर: सुभाषचन्द्र बोस (Exam - SSC CML May, 2001)
  • प्रश्न: “इन्कलाब जिन्दाबाद” का नारा सबसे पहले किसने लगाया था?
    उत्तर: भगत सिंह (Exam - SSC SOC Aug, 2001)
  • प्रश्न: फ्रांस की क्रान्ति का प्रसिद्ध नारा क्या था?
    उत्तर: स्वतंत्रता, समानता और भ्रातृत्व (Exam - SSC STENO G-D Aug, 2005)
  • प्रश्न: प्रसिद्ध नारा ‘गरीबी हटाओ’ कब दिया गया था?
    उत्तर: पाँचवी पंचवर्षीय योजना (1974-79 ई०) के दौरान (Exam - SSC SOA Sep, 2007)
  • प्रश्न: नारा ‘दो बूंद जिदगी की’ किस कार्यक्रम के साथ सबंधित है?
    उत्तर: पल्स पोलियों अभियान (Exam - SSC CML Mar, 2008)
  • प्रश्न: फ्रांसीसी क्रांति ने विश्व को क्या नारा दिया था ?
    उत्तर: स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व (Exam - SSC CHSL Dec, 2011)
  • प्रश्न: स्वराज मेरा जन्म सिद्ध अधिकार है, और मैं इसे पा कर ही रहूँगा। यह किसका नारा था
    उत्तर: लोकमान्य तिलक (Exam - SSC CGL Aug, 2015)
आपने अभी पढ़ा : Bhartiya Svatantrata Senaaniyon Dvaara Die Gae Pramukh Vachan Aur Naaro Ki Suchi

2 comments

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *